Breaking News
.

पिता को सजा पर भड़के तेजस्वी बोले- उन्होंने आरएसएस और भाजपा के खिलाफ लड़ाई लड़ी, भाजपा से हाथ मिला लिया होता तो उन्हें राजा हरिशचंद्र कहा जाता …

पटना। चारा घोटाले के डोरंडा कोषागार केस में 5 साल की जेल और 60 लाख जुर्माने की सजा लालू प्रसाद यादव को सुनाई गई है। इस फैसले के बाद उनके बेटे और राज्य के पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने एजेंसियों पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि क्या देश में चारा घोटाले के अलावा कोई और स्कैम नहीं हुई है।

तेजस्वी यादव ने कहा, ‘चारा घोटाले के अलावा क्या देश में कोई और स्कैम नहीं हुआ है। अकेले बिहार में ही करीब 80 स्कैम हो चुके हैं, लेकिन सीबीआई, ईडी और एनआईए आखिर कहां हैं। क्या पूरे देश में एक ही स्कैम हुआ है और एक ही नेता है। सीबीआई ने विजय माल्या, नीरव मोदी और मेहुल चोकसी को भुला दिया है।’

यही नहीं उन्होंने इस फैसले को उच्च न्यायालय में चुनौती देने की बात भी कही है। तेजस्वी यादव ने कहा, ‘मैं अदालत के फैसले पर कोई कॉमेंट नहीं करूंगा। यहां आखिरी फैसला नहीं है। हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट भी इस देश में हैं। हमने इस फैसले को हाई कोर्ट में चुनौती दी है। हमें उम्मीद है कि उच्च न्यायालय में निचली अदालत का फैसला पलट जाएगा।’ तेजस्वी यादव ने कहा, ‘यदि लालू जी ने भाजपा से हाथ मिला लिया होता तो उन्हें राजा हरिशचंद्र कहा जाता, लेकिन उन्होंने आरएसएस और भाजपा के खिलाफ लड़ाई लड़ी। इसलिए उन्हें कैद का सामना करना पड़ रहा है। हम इससे डरने वाले नहीं हैं।’

इस बीच लालू प्रसाद यादव ने भी सजा को लेकर ट्वीट किया है। उनके अकाउंट से ट्वीट किया गया, ‘अन्याय असमानता से, तानाशाही ज़ुल्मी सत्ता से, लड़ा हूँ लड़ता रहूँगा। डाल कर आँखों में आँखें, सच जिसकी ताक़त है। साथ है जिसके जनता, उसके हौसले क्या तोड़ेंगी सलाख़ें।’ इस तरह लालू यादव ने भी इशारों में कहा है कि सरकार उन्हें फंसाने का काम कर रही है।

बता दें कि लालू प्रसाद यादव की यदि 5 साल की सजा बरकरार रहती है तो फिर उन्हें जेल जाना होगा और वह चुनावी समर में भी नहीं उतर सकेंगे। यदि ऐसा होता है तो यह आरजेडी के लिए बड़ा झटका होगा, जो बिहार की राजनीति की बड़ी प्लेयर है।

error: Content is protected !!