Breaking News
.

स्वास्थ्य मंत्री ने मनमोहन सिंह के साथ खिंचवाया फोटो, दमन सिंह भड़की, कहा-मेरे पिता अस्पताल में हैं, कोई चिड़ियाघर में नहीं…

नई दिल्ली। शारीरिक स्वास्थ्य ठीक न होने के कारण पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को दिल्ली स्थित एम्स में भर्ती कराया गया है। वहीं केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री पिछले दिनों उनका हालचाल जानने गए थे। जहां उन्होंने पूर्व पीएम के साथ फोटो खिंचवाकर सोशल मीडिया अकाउंट में साझा कर दिया। इससे पूर्व प्रधानमंत्री की बेटी दमन सिंह भड़क गई और कहा कि- उनके पिता अस्पताल में हैं, कोई चिड़ियाघर में नहीं हैं। इसलिए निजता का ख्याल रखें।

शुक्रवार को एक बयान जारी कर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की बेटी दमन सिंह ने कहा कि उनके माता-पिता एक कठिन परिस्थिति का सामना करने की कोशिश कर रहे हैं। वे बुजुर्ग लोग हैं। वे चिड़ियाघर के जानवर नहीं हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि उनके पिता का एम्स में डेंगू का इलाज चल रहा है। उनकी हालत स्थिर है लेकिन उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो गई है। संक्रमण के खतरे को देखते हुए हमने आगंतुकों को प्रतिबंधित कर दिया है। स्वास्थ्य मंत्री का अस्पताल आकर मेरे पिता का कुशल क्षेम जानना अच्छा लगा। लेकिन मेरे माता-पिता उस समय फोटो खिंचवाने की स्थिति में नहीं थे। मेरी मां ने जोर देकर फोटोग्राफर को कमरा छोड़ने को कहा लेकिन उनकी बात को पूरी तरह से नजरअंदाज कर दिया गया। जिससे वह बहुत परेशान थी।

गुरुवार को केंद्रीय मंत्री मनसुख मांडविया ने एम्स जाकर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मुलाक़ात की थी। इस दौरान उनके साथ एक फोटोग्राफर और एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया भी थे। फोटोग्राफर ने डॉ मनमोहन सिंह की पत्नी गुरशरण कौर की आपत्ति के बावजूद केंद्रीय मंत्री मनसुख मंडाविया, रणदीप गुलेरिया और पूर्व प्रधानमंत्री की तस्वीर ली। जिसे केंद्रीय मंत्री मनसुख मांडविया ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट से साझा भी किया।

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की बेटी दमन सिंह के आपत्ति जताने के बाद कांग्रेस ने भी इस मुद्दे पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को जमकर घेरा। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा कि बीजेपी के लिए सबकुछ फोटो सेशन है। स्वास्थ्य मंत्री को शर्म आनी चाहिए कि उन्होंने एम्स में भर्ती पूर्व प्रधानमंत्री से मुलाक़ात को एक शर्मनाक पीआर स्टंट बना दिया। यह नैतिक मूल्यों की अवमानना है, पूर्व प्रधानमंत्री की निजता का उल्लंघन है, यह स्थापित परम्पराओं का अपमान है और यह बुनियादी शालीनता की अनुपस्थिति को दर्शाता है। इसलिए उनको माफ़ी मांगनी चाहिए।

बता दें कि 89 वर्षीय पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को बीते बुधवार को एम्स में भर्ती कराया गया। इससे पहले वे बुखार से पीड़ित थे। लेकिन अचानक तबीयत बिगड़ने और कमजोरी महसूस करने के बाद उन्हें एम्स में एडमिट कराया गया। एम्स के डॉक्टर नीतीश नायक के मार्गदर्शन में एक टीम पूर्व प्रधानमंत्री का इलाज कर रही है। इसी साल अप्रैल में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान भी उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया था। 

error: Content is protected !!