Uncategorized

वर्चस्व की लड़ाई में दो हाथियों ने गंवाई जान, राजाजी पार्क के मोतीचूर रेंज में जमकर हुआ था संघर्ष …

हरिद्वार। राजाजी पार्क की मोतीचूर रेंज में आपसी संघर्ष में हुई दो टस्कर हाथियों की मौत से यह साफ हो जाता है कि वर्चस्व की लड़ाई में दोनों टस्कर हाथियों के बीच संघर्ष घंटों चला होगा। घटनास्थल पर बिखरा पड़ा खून भी इसी ओर इशारा कर रहा है। राजाजी पार्क के वन्य जीव प्रतिपालक एलपी टम्टा ने बताया कि आपसी संघर्ष में हुई दोनों टस्कर हाथियों की मौत को देखते हुए लग रहा है कि दोनों टस्कर हाथियों के बीच घंटो तक आपसी संघर्ष चला होगा।

राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क की मोतीचूर रेंज में बीते गुरुवार को दो टस्कर हाथियों के बीच हुए आपसी संघर्ष में दूसरे हाथी की भी मौत हो गई है। दूसरे हाथी का शव मोतीचूर रेंज स्थित सुस्वा नदी में पाया गया है। शनिवार को दूसरे हाथी की मौत की सूचना के बाद राजाजी पार्क के निदेशक अखिलेश तिवारी सहित कई अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर हाथी के शव का पोस्टमार्टम कराया।

राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क के वन्यजीव प्रतिपालक एलपी टम्टा ने बताया कि बीते गुरुवार को राजाजी पार्क की मोतीचूर रेंज में दो टस्कर हाथियों के बीच आपसी संघर्ष हो गया था। जिसके चलते एक टस्कर हाथी की गुरुवार को ही गंभीर रूप से घायल हो जाने पर मौत हो गई थी। गुरुवार से ही राजाजी पार्क की मोतीचूर और कांसरो रेंज का स्टॉप सर्च ऑपरेशन चलाते हुए दूसरे हाथी की तलाश कर रहा था।

सर्च अभियान के तीसरे दिन दूसरे हाथी का शव मोतीचूर रेंज में गुलार पड़ाव बीट की सीमा पर सुस्वा नदी में पाया गया है। हाथी के शव को क्रेन की मदद से नदी से बाहर निकाला गया है। जिसके बाद हाथी के शव का पोस्टमार्टम भी करा दिया गया है।

इस मौके पर राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क की मोतीचूर रेंज के वन क्षेत्राधिकारी महेंद्र गिरी, कांसरो रेंज के वन क्षेत्राधिकारी हरीश चंद्र सेमवाल सहित कई राजाजी पार्क के कर्मचारी भी मौजूद रहे।

Related Articles

Back to top button