देश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली यह एनडीए सरकार बहुत ही नाजुक : राहुल गांधी

नई दिल्ली
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने दावा किया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली यह एनडीए सरकार बहुत ही नाजुक है। उन्होंने कहा है कि अपने तीसरे कार्यकाल में एनडीए की सरकार अस्तित्व के लिए संघर्ष कर सकती है। लोकसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के बाद अपने पहले साक्षात्कार में, राहुल गांधी ने फाइनेंशियल टाइम्स को बताया कि 4 जून के फैसले के बाद भारतीय राजनीतिक परिदृश्य में एक बड़ा बदलाव आया है। राहुल गांधी ने कहा, "संख्या इतनी कम है कि उनकी स्थिति बहुत नाजुक हैं, और थोड़ी सी भी गड़बड़ी सरकार को गिरा सकती है… सहयोगियों को दूसरी तरफ मुड़ना पड़ सकता है।"

रायबरेली और वायनाड दोनों लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज करने वाले पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष गांधी ने कहा, "यह विचार कि आप नफरत फैला सकते हैं, आप गुस्सा फैला सकते हैं और आप इसका लाभ उठा सकते हैं – भारतीय लोगों ने इस चुनाव में इसे खारिज कर दिया है।" राहुल गांधी ने कहा, "यही कारण है कि गठबंधन संघर्ष करेगा," उन्होंने कहा कि "क्योंकि 2014 और 2019 में नरेंद्र मोदी के लिए जिन चीज़ों ने काम किया वह काम नहीं कर रहा है।"  लोकसभा चुनाव के नतीजों में विपक्ष के इंडिया ब्लॉक ने एग्जिट पोल की भविष्यवाणी से काफी बेहतर प्रदर्शन किया और 543 में से 234 सीटें हासिल कीं। जबकि भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए ने 293 सीटों पर जीत दर्ज की। इन नतीजों ने राहुल गांधी को भारतीय राजनीति में फिर से सबसे आगे ला दिया है। अनुमान है कि उन्हें लोकसभा में विपक्ष का नेता बनाया जा सकता है। नरेंद्र मोदी ने लगातार तीसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली लेकिन पिछले दो लोकसभा चुनाव की तरह इस बार बीजेपी अपने दम पर पूर्ण बहुमत का आंकड़ा पार नहीं कर सकी। सरकार बनाने के लिए उसे अपने एनडीए के साथियों पर निर्भर होना पड़ा है।

वायनाड सीट खाली करेंगे राहुल, प्रियंका लड़ेंगी उपचुनाव
सोमवार को राहुल गांधी ने कहा कि वह उत्तर प्रदेश में रायबरेली लोकसभा सीट पर अपना उम्मीदवार बरकरार रखेंगे और केरल में वायनाड सीट खाली करेंगे, जहां से उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा चुनावी मैदान में उतरेंगी। इस मुद्दे पर अटकलों को खत्म करते हुए कांग्रेस प्रमुख मल्लिकार्जुन खड़गे ने उनके आवास पर चर्चा के बाद दोनों सीटों पर निर्णय की घोषणा की। बैठक में खड़गे और राहुल गांधी के अलावा कांग्रेस संसदीय दल की अध्यक्ष सोनिया गांधी और पार्टी महासचिव केसी वेणुगोपाल और प्रियंका गांधी वाड्रा भी मौजूद थे। अगर प्रियंका गांधी वाड्रा यह चुनाव जीतती हैं तो वह पहली बार सांसद के तौर पर संसद में प्रवेश करेंगी। यह भी पहली बार होगा कि गांधी परिवार के तीन सदस्य – सोनिया गांधी, राहुल और प्रियंका – एक साथ संसद में होंगे।

 

Back to top button