छत्तीसगढ़बिलासपुर

महिला की हत्या करने रिटायर्ड शिक्षक ने दी थी सुपारी, 3 गिरफ्तार, झारखंड भाग निकले शूटर …

अंबिकापुर। जशपुर जिले में 65 साल की विधवा महिला की गोली मारकर हत्या करने की सुपारी रिटायर्ड टीचर ने अपने 2 दामादों एवं शूटरों को दी थी। रिटायर्ड टीचर को शक था कि महिला जादू-टोना करती है। इसे लेकर पूर्व में मृत महिला के साथ उनका विवाद भी हुआ था। पुलिस ने मामले में रिटायर्ड टीचर और उनके 2 दामादों को गिरफ्तार किया है। घटना में शामिल 2 शूटर झारखंड के रहने वाले हैं, जो फरार हैं। आरोपियों को गिरफ्तार करने पुलिस ने टीमें भी बनाई थी। 

जशपुर थाना अंतर्गत आरा चौकी के बाकीटोला में बीती शाम करीब 6.30 बजे शराब मांगने के बहाने घुसे 4 युवकों ने विधवा महिला को गोली मार दी और भाग निकले थे। थाना प्रभारी रवि ने बताया कि पुलिस जांच में विधवा की हत्या जादू-टोना के शक में करने की बात सामने आई थी। मृत महिला के पड़ोसी रविशंकर महतो (63 वर्ष) निवासी बाकीटोली से महिला का पूर्व में विवाद भी हुआ था। महिला ने रविशंकर महतो के खिलाफ थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई थी।

पुलिस ने रविशंकर महतो एवं उसके 2 संदेही दामादों को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो हत्याकांड का खुलासा हो गया। महिला की हत्या का मुख्य साजिशकर्ता रविशंकर महतो रिटायर्ड शिक्षक है। उसने महिला की हत्या के लिए अपने दोनों दामाद लगन महतो (46 वर्ष) निवासी रूकरूमा थाना रायडीह जिला गुमला और अनिल साहू (27 वर्ष) निवासी सिलम थाना रायडीह जिला गुमला के माध्यम से अन्य 4 लोगों को हत्या की सुपारी दी थी।

पुलिस पूछताछ में रविशंकर महतो ने बताया कि उसका लड़का अकसर बीमार रहता है, जिससे उसे शक था कि मृतका भिनसो बाई ने उसके पुत्र पर जादू-टोना कर दिया है। नाराज और भयभीत रहने वाले रविशंकर महतो ने अपने दामादों की मदद से महिला की हत्या के लिए झारखंड से 4 लोगों को हत्या की सुपारी देकर बुलाया।

पुलिस ने आरोपियों के पास से बाइक, सुपारी के लिए दिए गए पैसों में शेष बचे 7500 रुपये, मोबाइल जब्त किया गया है। आरोपियों के विरुद्ध थाना सिटी कोतवाली जशपुर में धारा 302, 34, 120 बी, भादवि, 25, 27 आर्म्स एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है।

जशपुर जिले में गोलीकांड की तीसरी बड़ी वारदात में शूटर शराब मांगने के बहाने घुसे थे और मायके आई भिनसो बाई की गोली मारकर हत्या कर भाग निकले। शूटरों की जानकारी पुलिस को मिल गई है, लेकिन वे पुलिस गिरफ्त में आने के पूर्व ही झारखंड फरार हो गए हैं। इससे पहले भी गोलीकांड की घटनाएं हो चुकी हैं। सुरक्षा व्यवस्था को लेकर लोगों में दहशत है।

Related Articles

Back to top button