मध्य प्रदेश

चुनाव से पूर्व ही एमपी में मचा सियासी संग्राम, कमलनाथ ने फिर लिखी चिट्ठी, मतदाता सूची में गड़बड़ी के बाद अब लगाया मतदान केंद्र बदलने का गंभीर आरोप …

भोपाल। मध्य प्रदेश में अभी विधानसभा चुनाव में भले ही सालभर का समय बाकी हो, लेकिन यहां अभी से सियासी संग्राम छिड़ गया है। पीसीसी अध्यक्ष एवं पूर्व सीएम कमलनाथ ने अब चुनाव आयोग के साथ ही सभी जिला निर्वाचन अधिकारी को पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने बीजेपी विरोधी मतदाताओं को प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि एमपी में बीजेपी के दबाव में कुछ मतदान केंद्रों को जानबूझकर संवेदनशील बताया जा रहा है।

पूर्व सीएम कमलनाथ ने प्रदेश के पुलिस अधीक्षकों के बाद अब चुनाव आयोग और कलेक्टरों को एक और चिट्ठी भेजी है, जिसमें लिखा है कि जो मतदाता का समूह बीजेपी के पक्ष में वोट नहीं करता, उन मतदान केंद्रों को जानबूझकर मौजूदा जगह से दूर करने और संवेदनशील घोषित करने की तैयारी की जा रही है। कमलनाथ के मुताबिक गरीब बस्तियों, अनुसूचित जाति जनजाति और अल्पसंख्यक क्षेत्रों के मतदाताओं को उनके मतदान केंद्र से दूर मतदान केंद्र आवंटित करने का षड्यंत्र रचा जा रहा है, ताकि वह मतदान ना कर सकें। कमलनाथ ने चेतावनी दी है कि यदि दबाव में नियमों के विरुद्ध कार्य की पुष्टि होती है तो वह कलेक्टर और चुनाव आयोग के खिलाफ कोर्ट जाएंगे और उचित कार्रवाई करने की मांग करेंगे।

कांग्रेस के वोटर्स को दूर करने की साजिश का आरोप

कमलनाथ का कहना है जिलों से इस बात का फीडबैक मिला है कि कई जगह पर मतदान केंद्रों को बदला जा रहा है। यह वह मतदान केंद्र हैं, जहां पर कांग्रेस को बढ़त मिलती रही है। नगरीय निकाय चुनाव में भी इस तरह की शिकायतें आई थीं कि मतदान केंद्र बदलने के कारण कई वोटर वोट डालने से चूक गए थे। इसी की वजह से कम वोटिंग को लेकर सियासी बवाल खड़ा हुआ था, लेकिन अब 2023 के चुनाव से पहले मतदान केंद्र बदलने की शिकायतों पर प्रदेश में बीजेपी और कांग्रेस के बीच में सियासी संग्राम छिड़ता हुआ नजर आ रहा है। आलम यह है कि अब मामला चुनाव आयोग तक पहुंच गया है।

पुराना और बड़ा है मध्यप्रदेश में मतदाता सूची में गड़बड़ी का मुद्दा

मध्यप्रदेश में मतदाता सूची में गड़बड़ी का मुद्दा पुराना और बड़ा है। पिछले चुनावों में ये मसला कोर्ट तक पहुंच चुका है। अब एक नया और गंभीर मसला सामने आ रहा है। कांग्रेस का आऱोप है कि ऐसे इलाकों के मतदान केंद्रों को बदला जा रहा है, जहां कांग्रेस का वोटर है। नगरीय निकाय चुनाव में भी इसी वजह से वोटिंग कम हुई और कांग्रेस हार गयी। पूर्व सीएम कमलनाथ ने चुनाव आयोग और कलेक्टरों को चिट्ठी  लिखी है।

Related Articles

Back to top button