लखनऊ/उत्तरप्रदेश

भारत का सबसे बड़े हवाईअड्डा का रनवे बनाने का काम शुरू, 2024 में होगा उद्घाटन …

लखनऊ।  जेवर में बन रहा भारत का सबसे बड़े हवाईअड्डा का रन-वे बनाने का काम आज से शुरू हो गया है। एयरपोर्ट के रनवे की लंबाई 3900 मीटर और चौड़ाई 45 मीटर होगी। इस एयरपोर्ट का उद्घाटन सितंबर 2024 में होना है। आपको बता दें कि नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के निर्माण का ठेका टाटा प्रोजेक्ट लिमिटेड के पास है। यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड (वाईआईएपीएल) के मुताबिक टाटा प्रोजेक्ट इस परियोजना के लिए इंजीनियरिंग, निर्माण सामग्री की आपूर्ति और निर्माण से जुड़ी तमाम गतिविधियों को पूरा करेगी।

जेवर एयरपोर्ट समय पर बनकर तैयार हो जाएगा। इसे बनाने पर आने वाला खर्च भी तय सीमा को पार नहीं करेगा। यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड (YIAPL) के सीईओ क्रिस्टोफ लमैन ने कुछ दिन पहले यह बात कही थे। बता दें कि जेवर एयरपोर्ट को बनाने और इसके संचालन के लिए वायआईएपीएल की स्थापना हुई है। यह ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल की सब्सिडियरी है और वायआईएपीएल में ज्यूरिख एयरपोर्ट की 100 फीसदी हिस्सेदारी है।

आपको बता दें कि जूरिक इंटरनेशनल एयरपोर्ट एजी ने वर्ष 2019 में नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे को विकसित करने के लिए बिड हासिल की थी। तब से लेकर अब तक इस दिशा में कई महत्वपूर्ण पड़ाव पार किए गए हैं। इनमें सिक्योरिटी क्लीयरेंस, कंसेशन एग्रीमेंट, आर्किटेक्ट का चयन, ब्रांड आईडेंटिटी, शेयर होल्डर एंड स्टेट सपोर्ट एग्रीमेंट, मास्टर प्लान से जुड़ी मंजूरियां, डेवलपमेंट प्लान, एसबीआई के साथ वित्तीय समझौता और ईंधन की उपलब्धता जैसे महत्वपूर्ण काम पूरे किए गए हैं। 1 अक्टूबर 2021 से कंस्ट्रक्शन टाइम लाइन शुरू हो चुकी है। 25 नवंबर 2021 को प्रधानमंत्री ने एयरोपोर्ट का शिलान्यास किया था।

एयरपोर्ट में टर्मिनल वन बिल्डिंग 90 हजार वर्ग मीटर में बनेगी। विकासकर्ता कंपनी के साथ किए गए अनुबंध के मुताबिक 30 सितंबर 2024 से पहले एयरपोर्ट से उड़ान शुरू हो जाएंगी। पिछले साल अक्तूबर में लखनऊ में नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (नियाल) और विकासकर्ता कंपनी के बीच 40 साल का अनुबंध हुआ था। इसके तहत 1 अक्तूबर 2021 से निर्माण शुरू करना माना गया है और 1095 दिन के अंदर संचालन शुरू होना है। अगर निर्माण कार्य व उड़ान में देरी होती है दस लाख रुपये प्रतिदिन का जुर्माना लगाया जाएगा।

Related Articles

Back to top button