Uncategorized

जीपी सिंह को बेल नहीं फिर जेल, छत्तीसगढ़ के निलंबित IPS की 14 दिनों तक बढ़ाई गई न्यायिक रिमांड

रायपुर। छत्तीसगढ़ के निलंबित ADG (अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक) जीपी सिंह को रायपुर कोर्ट से राहत नहीं मिली। 14 फरवरी को रिमांड अवधि खत्म होने के बाद विशेष न्यायधीश लीना अग्रवाल की अदालत में सुनवाई हुई। कोर्ट में जीपी के वकील पेश हुए। वकीलों ने उनके स्वास्थ्य का हवाला देते हुए जमानत की अर्जी लगाई। वकीलों की जिरह को दरकिनार करते हुए न्यायालय ने जीपी सिंह को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में रहने का आदेश दिया है। अब उन्हें 28 फरवरी तक जेल में ही रहना होगा। निलंबित IPS जीपी सिंह को ACB (एंटी करप्शन ब्यूरो) ने गिरफ्तार किया है।

बता दें कि 11 जनवरी को हरियाणा के गुरुग्राम से जीपी सिंह को गिरफ्तार किया गया था। जीपी सिंह अभी सस्पेंड चल रहे हैं। छत्तीसगढ़ एंटी करप्शन ब्यूरो (ACB) के चीफ रह चुके IPS जीपी सिंह पर राजद्रोह, आय से अधिक संपत्ति का केस दर्ज है। 1 जुलाई 2021 को एसीबी की टीम ने उनके 15 ठिकानों पर छापेमारी कर 10 करोड़ रुपए के अनुपातहीन संपत्ति का खुलासा किया था। इसके बाद एसीबी-ईओडब्ल्यू में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम सहित विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज किया गया था। जीपी सिंह छह महीन तक फरार थे, जिसकी बाद उसकी गिरफ्तारी हुई थी। पुलिस रिमांड में एसीबी ने उनसे 200 से अधिक सवाल पूछे गए थे, जिसका उन्होंने जवाब भी दिया था। वकीलों का कहना है कि जीपी सिंह की तबीयत खराब है।

एक समय राज्य के ताकतवर पुलिस अधिकारी माने जाने वाले जीपी सिंह को पहले हाईकोर्ट ने कोई राहत नहीं दी। इसके बाद उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया, लेकिन कोर्ट ने राहत देने से इनकार कर दिया। इसके बाद 11 जनवरी को उन्हें गुरुग्राम से गिरफ्तार किया गया, जिसके बाद सड़क मार्ग से उन्हें 12 जनवरी को रायपुर लाया गया था। जीपी सिंह जब पहली बार कोर्ट पहुंचे थे तो उन्होंने इस मामले को फैब्रिकेटेड बताया था।

कोर्ट ने पहले दो दिनों की पुलिस रिमांड का आदेश दिया था, लेकिन एसीबी द्वारा पूछताछ में समय लगने की बात कहने पर कोर्ट ने चार दिनों की रिमांड अवधि अवधि बढ़ाई थी। 14 जनवरी को कोर्ट परिसर में जीपी सिंह ने इस मामले को पॉलिटिकल विक्टमाइजेशन बताया था। 18 जनवरी से जीपी सिंह न्यायिक रिमांड पर रायपुर के केंद्रीय जेल में बंद हैं। छत्तीसगढ़ के इतिहास में पहली बार किसी आईपीएस को न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया है।

Related Articles

Back to top button