Breaking News

दिल्ली दरबार: कमलनाथ और अजय सिंह की भिड़ंत को कांग्रेस आलाकमान की नसीहत …

नई दिल्ली (पंकज यादव) । मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। इसका ताजातरीन उदाहरण प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और पार्टी के वरिष्ठ नेता अजय सिंह के बीच वाक युद्ध का है। दोनों नेताओं के बीच चल रहे आरोप प्रत्यारोप को पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने गम्भीरता के साथ लिया है।

गौरतलब है कि कमलनाथ की सरकार गिरने के बाद से ही कांग्रेस नेता एक दूसरे पर पार्टी को कमजोर करने का आरोप लगाते रहे हैं। कमलनाथ का मानना है कि उनकी सरकार गिराने में पार्टी नेताओं का ही योगदान है। ऐसे में पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजयसिंह ने  कमलनाथ को नसीहत दे डाली। सिंह ने कहा कि कमलनाथ विन्ध्य इलाके के सरकार गिरने का कारण मानते हैं जबकि ऐसा नहीं है।

अजय सिंह ने कहा- कमलनाथ ऐसे शब्द न बोले कि भाजपा को मिल जाये राजनीति करने का मुद्दा। इस तरह की बयानबाजी को लेकर कांग्रेस आलाकमान काफी गम्भीर हो गया है। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का मानना है कि अभी समय एक दूसरे पर आरोप लगाने का नहीं है। ऐसे समय मे एकजुट होकर काम करने की जरूरत है। हालांकि प्रदेश में विधानसभा चुनाव 2023 में है लेकिन पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व का मानना है कि जनता के बीच कोई गलत संदेश नहीं जाना चाहिए। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता के मुताबिक आने वाले दिनों में कांग्रेस मध्यप्रदेश में नए चेहरे को मौका दे सकती है। क्योंकि कमलनाथ के नेतृत्व को प्रदेश के कई नेता पचा नहीं पा रहे हैं। कमलनाथ से नाराजगी के कारण ही ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस छोड़ भाजपा का दामन थाम लिया था।

error: Content is protected !!