मध्य प्रदेश

भाजपा-कांग्रेस को हराने वाला पार्षद जिंदगी से जंग हारा, छिंदवाड़ा के निर्दलीय पार्षद ने फांसी लगाकर किया सुसाइड

 

छिंदवाड़ा। मध्यप्रदेश में छिंदवाड़ा नगर निगम के निर्दलीय पार्षद राजेश भोयर ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। 40 वर्षीय राजेश भोयर ने पिछले चुनाव में भाजपा और कांग्रेस के प्रत्याशियों को हराकर गुलाबरा के वॉर्ड 42 से निर्दलीय रूप में जीत हासिल की थी। बताया जा रहा है कि घटना वाले दिन शाम साढ़े पांच बजे से साढ़े सात बजे के आसपास राजेश घर में थे। रात को उनका भांजा खाना देने आया तो राजेश घर के तीसरे कमरे में फंदे पर झूलते मिले। उन्हें तत्काल परासिया रोड स्थित निजी अस्पताल लाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

आत्महत्या के पीछे मानसिक तनाव को वजह बताया जा रहा है। कुछ लोगों ने दिन में राजेश को शहर में घूमते भी देखा था। वहीं,  कुछ लोगों से उन्होंने मुलाकात भी की थी। मौत को गले लगाने से पहले वह पांच बजे घर पहुंचे तो उनके भांजे ने उन्हें चाय पिलाई थी। शाम साढ़े सात बजे वह फंदे पर झूलते मिले। बताया जाता है राजेश इन दिनों बीमार चल रहे थे। मंगलवार रात भी उन्होंने घर में काफी हंगामा किया था। बुधवार सुबह उठे तो उन्होंने अपने किसी दोस्त को फोन कर जानकारी दी थी कि अच्छा नहीं लग रहा। उन्होंने कोलाढाना में अलग रह रही पत्नी खुशबू भोयर से भी संपर्क किया। खुशबू खुद घर आई और डॉक्टर को दिखाने ले गई थी। चेक-अप में राजेश का ब्लडप्रेशर 200 के आसपास था। दोपहर में उन्होंने अपने दोस्त से नागपुर जाकर चेक-अप कराने की बात कही थी, लेकिन शाम को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

दो बार भाजपा से पार्षद रह चुके थे राजेश

राजेश भोयर दो बार भाजपा के टिकट पर चुनाव जीतकर पार्षद रह चुके थे। पूर्व में वे सभापति भी रहे हैं। हाल ही में संपन्न हुए निकाय चुनाव में राजेश ने भाजपा से टिकट मांगा था, लेकिन उन्हें टिकट नहीं मिला। उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़ा और 1060  मत हासिल किए थे। उनके निकटतम प्रतिद्वंदी कांग्रेस के जगदीश झांझोट को 530 और तीसरे स्थान पर रहे भाजपा के दिनेश मालवी को 502 मत ही हासिल हुए थे। बहरहाल, परिवारजनों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने राजेश के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा और प्रकरण दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

Related Articles

Back to top button