Breaking News

कोरोना काल में पिकनिक मनाने चंदौली निकले BHU के 4 डॉक्टर डैम में डूबे, 2 की मौत …

लखनऊ । कोरोना संक्रमण काल के बीच उत्तर प्रदेश के चंदौली में स्थित लतीफशाह में पिकनिक मनाने पहुंचे बीएचयू के 4 डॉक्टर डूब गए। इसमें दो को बचा लिया गया, जबकि दो की मौत हो गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने स्थानीय गोताखोरों की मदद से दोनों का शव बरामद किया। हादसे के बाद से लोगों का कहना है कि देशभर में पढ़े-लिखा वर्ग ही कोरोना वायरस को फैला रहा है। सरकार जहां घर पर रहने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील कर रही है तो वहीं देश का पढ़ा लिखा और रईस वर्ग गरीबों की जान को खतरे में डालकर पैसों के दम पर पिकनिक मना रहा है। कोरोना के देश भर में फैलने का असली जिम्मेदार लोगों ने रईसजादों को बताया है, जो विदेशों से बीमारी लेकर हवाई जहाज से भारत आए हैं।

बीएचयू के सुश्रुत हॉस्टल के मेडिकल छात्र विकास झा (25) निवासी कोलकाता, शिवम सैनी (26) निवासी मथुरा, हर्षवर्धन (25) निवासी नैनीताल और रोशन कुमार (27) निवासी जमशेदपुर चार पहिया वाहन से चकिया कोतवाली क्षेत्र के लतीफशाह में सैर-सपाटे को पहुंचे थे।
मेडिकल डॉक्टरों की टीम ने वहां पहुंचने पर कर्मनाशा नदी के पानी में नहाना आरंभ कर दिया। इसी दौरान धीरे-धीरे वे गहरे पानी में चले गए और डूबने लगे। शोर मचाने पर पहुंचे लोगों ने हर्षवर्धन और रोशन कुमार को बचा लिया, जबकि विकास झा और शिवम सैनी गहरे पानी में डूब गए।

मामले की जानकारी होते ही उप जिलाधिकारी अजय मिश्रा, एडिशनल एसपी अनिल कुमार और कोतवाल नागेंद्र प्रताप सिंह मौके पर पहुंचे। उन्होंने घटनास्थल का जायजा लेकर डूबे छात्रों को निकालने की कवायद आरंभ कर दी। गोताखोरों की मदद से दोनों शवों को बरामद कर लिया गया।

घटना में बाल बाल बचे दोनों डाक्टर सदमे में हैं। दोनों का रो-रोकर बुरा हाल है। इस बाबत एडिशनल एसपी (नक्सल) अनिल कुमार ने बताया कि बीएचयू एमएस के चार डॉक्टर लतीफ शाह बियर में पिकनिक मनाने पहुंचे थे। इसी दौरान हादसा हो गया।

Check Also

मराठा आरक्षण और उस पर सरकार की परेशानी …

मुंबई (संदीप सोनवलकर) । महाराष्ट्र की उध्दव ठाकरे सरकार इन दिनों मराठा आरक्षण के सवाल …

error: Content is protected !!