मध्य प्रदेश

पत्नी-बच्चों को जहर देकर खुद भी फंदे पर झूला युवक, कर्ज से तंग आकर खत्म कर लिया अपना पूरा परिवार ….

इंदौर। मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में अंदर से बंद एक घर में पति-पत्नी के साथ दो मासूम बच्चों के शव मिलने से सनसनी फैल गई। सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस घर का दरवाजा तोड़कर अंदर घुसी, जहां चारों के शव मिले। पत्नी और बच्चों के शव जमीन पर पड़े थे। वहीं पति फंदे पर झूलता मिला। युवक के हाथ पीछे की ओर से बंधे हुए थे, जिसके चलते पुलिस हत्या के एंगल पर भी जांच कर रही है।

बताया जाता है युवक ने लॉकडाउन से पहले 4 अलग-अलग कंपनियों के मोबाइल एप से तीन लाख का पर्सनल लोन लिया था, जिसे वह समय पर नहीं चुका पाया। लोन रिकवरी वाले उससे हर हफ्ते तीन हजार रुपए पेनल्टी के वसूल रहे थे। इससे परेशान होकर युवक ने पत्नी और दोनों मासूम बच्चों को जहर दे दिया। इसके बाद खुद भी फांसी लगा ली। पुलिस को मौके से सुसाइड नोट भी मिला है। युवक का शव फंदे से लटक रहा था, लेकिन उसके हाथ पीछे से बंधे थे। ऐसे में पुलिस हत्या के एंगल से भी जांच कर रही है।

मामला बाणगंगा इलाके के भागीरथपुरा का है। भागीरथपुरा चौकी के पास किराये के मकान में अमित यादव पत्नी टीना, तीन साल की बेटी याना और डेढ़ साल के बेटे दिव्यांश के साथ रहता था। मूलत: सागर का रहने वाला अमित एक मोबाइल टॉवर कंपनी में इलेक्ट्रिक इंजीनियर था। अमित और टीना ने 5 साल पहले लव मैरिज की थी। वह यहां तीन साल से रह रहा था। मकान मालिक केदारनाथ ने बताया कि अमित की मां का फोन आया था। उन्होंने बेटे के फोन न उठाने पर उससे बात कराने को कहा। जब मैं वहां पहुंचा तो उन्होंने दरवाजा नहीं खोला। इसके बाद मैंने अमित की मां और पुलिस को जानकारी दी।

अमित की पत्नी टीना सोमवार को दोनों बच्चों के साथ महाकाल दर्शन करने उज्जैन गई थी। उनके साथ बच्चों की नानी भी गई थी, जो घर के सामने वाली लाइन में ही रहती है। टीना की मां रोज दोपहर 12 बजे उनके घर आती थी। मंगलवार को भी जब वह उनके घर पहुंची तो दरवाजा अंदर से बंद था। दरवाजा नहीं खुलने पर उन्होंने मकान मालिक को बताया। इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने अमित के परिवार वालों को घटना की जानकारी देने के बाद चारों शव पीएम के लिए भेज दिए और जांच शुरू कर दी है।

Related Articles

Back to top button