देश

5 मंजिला इमारत गिरने से अब तक 7 लोगों की मौत, कई लोगों के अब भी मलबे में दबे होने की आशंका जताई जा रही

सूरत
गुजरात के सूरत शहर के पाल इलाके में शनिवार दोपहर 5 मंजिला इमारत ढहने से अब तक 7 लोगों की मौत हो चुकी है और कई लोगों के अब भी मलबे में दबे होने की आशंका जताई जा रही है। घटनास्थल पर कल दोपहर से ही तलाशी अभियान जारी है। एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें लगातार रेक्स्यू ऑपरेशन चला रही हैं। सूरत के डीसीपी राजेश परमार ने कहा कि बचाव अभियान 12 घंटे से चल रहा है। एक महिला को बचा लिया गया है और 7 शव बरामद कर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिए गए हैं।

सूरत के मुख्य अग्निशमन अधिकारी बसंत पारीक ने रविवार सुबह कहा कि सूरत नगर निगम की फायर एंड इमरजेंसी सर्विसेज के कंट्रोल रूम में शनिवार दोपहर 3.55 मिनट पर एक 5 मंजिला इमारत ढहने का कॉल मिला था। इमारत का साइज देखकर हमने ब्रिगेड-4 डिक्लेयर किया था। उसमें करीब 80 फायरमैन और 20 फायर ऑफिसर के साथ निगम की सभी टीमों के कर्मचारी तुरंत यहां पहुंच गए थे। हमने यहां सर्च ऑपरेशन चलाया और कड़ी मेहनत के बाद एक महिला को जिंदा बचा लिया।

बसंत पारीक ने कहा कि पूरी रात तलाशी अभियान जारी रहा। अब तक 7 लोगों की शव निकाले जा चुके हैं और कोई भी मिसिंग नहीं है। अब अंदर और लोगों के फंसे होने की भी उम्मीद नहीं है। हमने आसपास के रहने वालों से भी इस बारे में कन्फर्म कर लिया है, फिर भी ऐहतियातन हम मलबा हटाकर ट्रक में डालते समय गहनता से इसकी जांच कर रहे हैं। इमारत कैसे गिरी यह जांच का विषय है। वहीं, एनडीआरएफ इंस्पेक्टर बाबूलाल यादव ने कहा कि हमें 5 मंजिला इमारत के ढहने की सूचना मिली थी और मलबे में कुछ लोग फंसे हुए थे। 7 शव निकाले गए हैं और एक व्यक्ति को जीवित भी निकाला गया है। रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। हम यह नहीं बता सकते कि कितने और लोग फंसे हुए हैं, लेकिन संख्या बढ़ सकती है।

करीब 7 साल पहले बनी थी इमारत
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, सूरत शहर में यह घटना शनिवार दोपहर में करीब 2.45 बजे पर हुई थी। स्थानीय लोगों का दावा है कि इस इमारत का निर्माण 2016-17 में ही हुआ था। सूरत के पुलिस कमिश्नर अनुपम सिंह गहलोत ने कल बताया था कि इमारत ढहने के तुरंत बाद एक महिला को सुरक्षित बचा लिया गया, जबकि रात में मलबे से एक व्यक्ति का शव निकाला गया। उन्होंने कहा, ‘‘करीब पांच फ्लैटों में लोग रहते थे, जिनमें से ज्यादातर इस इलाके के कारखानों में काम करने वाले लोग थे। जब बचाव कार्य शुरू हुआ, तो हमें फंसे हुए लोगों की चीखें सुनाई दीं। हमने मलबे से एक महिला को निकाला और उसे अस्पताल पहुंचाया। बाद में एक व्यक्ति का शव बरामद किया गया।’’

 

Back to top button