Breaking News
.

विराट कोहली का सपना हुआ अधूरा, इधर, युजवेन्द्र चहल ने रचा इतिहास…

नई दिल्ली। विराट कोहली का इंडियन प्रीमियर लीग में ट्रॉफी जीतने का सपना अधूरा रह गया। कोहली की अगुवाई में रॉयल चैलेंजर्स बंगलौर ने 11 अक्टूबर की रात एलिमिनेटर मुकाबला गवां दिया। आईपीएल 2021 का यूएई चरण शुरू होने से पहले विराट कोहली ने ऐलान किया था कि वह टूर्नामेंट के बाद आरसीबी की कप्तानी छोड़ देंगे।

 

एलिमिनेटर मुकाबले के बाद उन्होंने यह भी साफ कर दिया कि वह आरसीबी के लिए ही आईपीएल खेलेंगे। ऐसे में स्पष्ट है कि वह अब आईपीएल चैंपियन कप्तान कभी नहीं बन पाएंगे। विराट कोहली की इस हार ने उनके साथ हमेशा के लिए एक अनचाहा रिकॉर्ड भी जोड़ दिया। विराट कोहली आईपीएल के पहले कप्तान हैं, जिन्होंने अपनी टीम के लिए 100 से ज्यादा मुकाबलों में कप्तानी की, लेकिन कभी भी वह उसको चैंपियन नहीं बना पाए।

 

कोहली ने आईपीएल में आरसीबी के लिए 140 मैच में कप्तानी की। इसमें से उन्होंने 66 मैच जीते, जबकि 70 में उन्हें हार झेलनी पड़ी। चार मुकाबले बेनतीजा रहे। इस दौरान उन्होंने अपनी टीम को एक बार फाइनल (आईपीएल 2016) में पहुंचाया, जबकि तीन बार प्लेऑफ में ही सफर खत्म हो गया। आरसीबी उनकी अगुआई में आईपीएल 2017 और 2019 में ग्रुप चरण में सबसे निचली पायदान पर रही।

 

आईपीएल में 40 से ज्यादा मैच में कप्तानी करने के बावजूद अपनी टीम को चैंपियन नहीं बना पाने के मामले में वीरेंद्र सहवाग दूसरे नंबर पर हैं। सहवाग ने 53 मैच में आईपीएल टीम की कमान संभाली थी। सचिन तेंदुलकर ने भी आईपीएल में 51 मैच में मुंबई इंडियंस की कप्तानी की, लेकिन एक बार भी टीम को चैंपियन नहीं बना पाए। सचिन के बाद राहुल द्रविड़ का नंबर आता है।

 

राहुल द्रविड़ 48 मैच में कप्तानी करने के बावजूद अपनी टीम को आईपीएल चैंपियन नहीं बना पाए। श्रीलंका के कुमारा संगकारा भी आईपीएल के असफल कप्तानों में से एक हैं। उन्होंने 47 मैच में कमान संभाली, लेकिन टीम के हिस्से आईपीएल ट्रॉफी नहीं आई।

 

आईपीएल 2021 का यूएई चरण युजवेंद्र चहल के लिए बहुत शानदार रहा। वह इस सीजन यूएई में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले स्पिनर बने। उन्होंने आईपीएल 2021 के यूएई चरण में 14 विकेट लिए। भारत में खेले गए पहले चरण में वह सिर्फ एक विकेट ले पाए थे। दूसरे नंबर पर सुनील नरेन रहे। उन्होंने 11 विकेट अपने नाम किए।

 

अक्षर पटेल और वरुण चक्रवर्ती 9-9 विकेट लेने में सफल रहे। रवि बिश्नोई और राशिद खान के हिस्से 8-8 विकेट आए। खास यह है कि यूएई में रविचंद्रन अश्विन और राहुल चाहर कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए, जबकि ये दोनों ही टी20 वर्ल्ड कप के लिए चुनी गई टीम इंडिया का हिस्सा हैं।

error: Content is protected !!