मध्य प्रदेश

शिवराज का अनोखा अंदाज : हेलिकॉप्टर में घुमाकर आदिवासियों का सपना किया साकार

भोपाल। मध्यप्रदेश में उपचुनाव से पहले जनदर्शन यात्रा पर निकले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान हर दिन बदले-बदले अंदाज में नज़र आ रहे हैं. उन्होंने यात्रा के दौरान ही टीकमगढ़ जिले के निवारी में मंच से ही अधिकारियों को सस्पेंड करने के आदेश जारी किए, तो वहीं अलीराजपुर जिले के जोबट में उन्होंने अपने स्टेट हेलिकॉप्टर में आदिवासियों को सैर कराई. जनदर्शन यात्रा के दौरान जोबट पहुंचे सीएम से कुछ आदिवासी बंधुओं ने उनसे हेलिकॉप्टर से सैर करने की इच्छा जाहिर की थी.

मुख्यमंत्री ने आदिवासी बंधुओं का सपना पूरा करते हुए उन्हें अपने स्टेट हेलिकॉप्टर में बैठाकर रणबयढ़ा से सेजावाड़ा तक की यात्रा कराई. जिन आदिवासियों ने सीएम के साथ हेलिकॉप्टर में यात्रा की, उनमें दरियाव सिंह, मंगल सिंह, रिच्छु सिंह बघेल, जोध सिंह शामिल हैं. सीएम के साथ हेलिकॉप्टर में यात्रा करने के बाद आदिवासियों ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का धन्यवाद किया और कहा कि आज उनका सपना पूरा हुआ.

 

बदले-बदले से नजर आ रहे सीएम

इससे पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आदिवासियों के साथ ही नृत्य करते हुए नज़र आए थे. मुख्यमंत्री का अलीराजपुर की जोबट मंडी में महिला सशक्तिकरण का कार्यक्रम था. इसी दौरान आदिवासी कलाकारों के साथ सीएम भी नृत्य करते नज़र आए. सीएम शिवराज बीते कुछ दिनों से जनदर्शन यात्रा निकाल रहे हैं. इस दौरान खास तौर से वे उन इलाकों में जा रहे हैं, जहां आने वाले दिनों में उपचुनाव होना है. जोबट सीट भी उनमें से एक है. दरअसल, आने वाले समय में जोबट विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव होना है और हाल ही में आदिवासियों के साथ मध्यप्रदेश के अलग-अलग ज़िलों में हुई घटना के बाद से ही शिवराज सरकार बैकफुट पर है और बुधवार को हेलीकॉप्टर की सवारी को आदिवासियों को रिझाने के तौर पर ही देखा जा रहा है.

 

कांग्रेस ने साधा निशाना

सीएम शिवराज के इस अंदाज पर कांग्रेस ने तंज कसा है. कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने कहा कि सीएम शिवराज कमल नाथ की नकल कर रहे हैं. लेकिन, कमलनाथ खुद के निजी हेलीकॉप्टर में आदिवासियों को घुमा चुके हैं. सीएम केवल चुनाव के चक्कर में आदिवासियों को घुमा रहे हैं और वो भी सरकारी हेलिकॉप्टर में. इससे पहले शिवराज को कितनी बार आदिवासियों की याद आई. आदिवासी नेमावर, नीमच खरगौन का कांड नहीं भूले हैं।

Related Articles

Back to top button