छत्तीसगढ़रायपुर

पुरस्कार मिले ना मिले अविष्कार होना चाहिए, – नवीन अविष्कारों के प्रति सजग रहते हुए वैज्ञानिक सोच के माध्यम से कम लागत में अविष्कार करने कलेक्टर ने विद्यार्थियों को किया प्रेरित ….

राजनांदगांव । कलेक्टर डोमन सिंह जिला स्तरीय इंस्पायर अवार्ड प्रोजेक्ट प्रतियोगिता के समापन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए। कलेक्टर ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि पुरस्कार मिले ना मिले अविष्कार होना चाहिए अर्थात किसी भी प्रतियोगिता में हार-जीत उतना मायने नहीं रखता है, जितना नवीन अविष्कारों के प्रति सजग रहते हुए लगातार वैज्ञानिक सोच के माध्यम से कम लागत में नए अविष्कार किये जाये। उन्होंने एक बड़े समूह को लाभान्वित करने हेतु वैज्ञानिक सोच का विकास करने हेतु प्रेरित किया।

भारत सरकार, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के प्रतिनिधि राहुल प्रकाश ने अपने उद्बोधन में विद्यार्थियों एवं शिक्षकों को एक लक्ष्य तय कर उस दिशा में योजनाबद्ध ढंग से ठोस प्रयास करने हेतु प्रेरित किया। उन्होंने सतत योजनाबद्ध और कठिन परिश्रम से तय लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु क्रियाशील रहने की आवश्यकता पर जोर दिया। जिला शिक्षा अधिकारी राजेश सिंह ने विद्यार्थियों द्वारा नवीन सोच के आधार पर बनाए गए विभिन्न मॉडल की प्रशंसा की एवं उनके उवल भविष्य की कामना की।

कार्यक्रम के नोडल अधिकारी आदित्य खरे, सचिव जिला जन साक्षरता समिति श्रीमती रश्मि सिंह, प्राचार्य डॉ. बल्देव प्रसाद मिश्र हायर सेकेंडरी विद्यालय कैलाश शर्मा, प्राचार्य हायर सेकेंडरी शाला टेडे़सरा दीपक ठाकुर, विकासखंड शिक्षा अधिकारी वाई डी साहू, बीआरसी राजनांदगांव भगत सिंह ठाकुर सहित संबंधित शालाओं के प्रभारी शिक्षक एवं विद्यार्थीगण उपस्थित थे। कार्यक्रम के अंत में आभार प्रदर्शन नोडल अधिकारी सहायक संचालक आदित्य खरे द्वारा किया गया।

जिला स्तरीय प्रतियोगिता में कुल 14 विकासखंडों के प्रतिभागी शामिल हुए थे। बालोद जिले से कुल 136 मॉडल शामिल हुए थे। जिसमें से 13 मॉडल को राज्य स्तरीय प्रतियोगिता हेतु चयन किया गया है। इसी प्रकार अविभाजित राजनांदगांव जिले से 207 मॉडल शामिल हुए थे। उसमें से 20 मॉडल को राज्य स्तरीय प्रतियोगिता हेतु चयन किया गया है।

Related Articles

Back to top button