नई दिल्ली

पायलट ने भारतीय छात्रों का बढ़ाया हौंसला, कहा- यह अपनी मातृभूमि लौटने का समय…

नई दिल्ली। रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध के दौरान भारतीय छात्र की मौत से लोगों में सरकार के प्रति गहरी नाराजगी है। कर्नाटक के छात्र की मौत होने के बाद अभियान में तेजी आई है और ऑपरेशन गंगा अभियान जारी है। इसके तहत भारतीय विमान लगातार यूक्रेन और उसके बॉर्डर पर लगे देशों से भारतीय छात्रों को निकाल रहे हैं। इसमें भारत सरकार के मंत्री सहित भारतीय पायलट  हौंसला बढ़ा रहे हैं। इसी कड़ी में बुडापेस्ट से नई दिल्ली आ रहे एक विमान में पायलट ने जब छात्रों का हौंसला बढ़ाया तो उन शब्दों से छात्र भावुक हो गए। यह वीडियो वायरल हो रहा है।

दरअसल, इस वीडियो को न्यूज एजेंसी एएनआई ने ट्विटर पर शेयर किया है। वीडियो में दिख रहा है कि छात्रों का एक जत्था विमान में सवार है और टेक ऑफ से पहले विमान का पायलट कॉकपिट से छात्रों को संबोधित कर रहा है। पायलट ने कहा कि आप सभी का स्‍वागत है, आपको सुरक्षित देखकर हमें खुशी हो रही है, आपके साहस व दृढ़ता पर हमें गर्व है। आप अनिश्चिता, कठिनाइयों और डर पर जीत हासिल करते हुए यहां सुरक्षित पहुंचे हैं।

पायलट ने आगे कहा कि यह मातृभूमि जाने का, हमारे घर जाने का समय है। दिल्‍ली पहुंचने में हमें लगभग नौ घंटे लगेंगे, जिसमें ईंधन भरवाने के लिए जॉर्जिया में एक ठहराव भी शामिल है। तो बैठिए, रिलैक्‍स कीजिए, नींद लीजिए, तनाव मुक्‍त रहिए, यात्रा का आनंद लीजिए और अपने परिवार से मिलने के लिए तैयार रहिए। इसके बाद वह ‘जय हिंद’ कहते हैं, और फिर विमान में सवार भारतीय छात्र तालियों की गड़गड़ाहट के साथ भारत माता की जय के नारे लगाते हैं।

वहीं एक अन्य वीडियो में दिख रहा है कि जब एक विमान वापस नई दिल्ली आया तो केंद्रीय मंत्री केंद्रीय मंत्री गजेंद्र शेखावत ने विमान में भारतीय छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि आप सभी एक दुखद याद के साथ भारत आए हैं। आप में से कई लोग घंटों, दिनों तक सो नहीं पाए होंगे, सरकार आपके लिए दिन-रात काम कर रही है, अगले 2-3 दिनों में और लोगों को निकाला जाएगा।

बता दें कि यूक्रेन के युद्ध ग्रस्त क्षेत्रों में अभी भी करीब चार हजार भारतीयों के फंसे होने का अनुमान है। हालांकि काफी संख्या में लोग यूक्रेन के पश्चिमी हिस्से की ओर निकलने में कामयाब रहे हैं। उधर बताया जा रहा है कि राजधानी कीव से करीब करीब सभी भारतीय निकल चुके हैं।

Related Articles

Back to top button