मध्य प्रदेश

मध्यप्रदेश में चीता आगमन को लेकर सीएम शिवराज प्रफुल्लित, कहा- अब हम टाइगर और लेपर्ड स्टेट के साथ चीता स्टेट भी’ ….

भोपाल। प्रदेश को कल यानी शनिवार को आने वाले उस पल का इंतजार है, जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र  मोदी श्योरपुर के कूनो पालपुर नेशनल पार्क में नामीबिया से लाए जा रहे चीतों को पिंजरों से छोड़ेंगे। सीएम शिवराज सिंह चौहान भी इसे लेकर बहुत खुश और प्रफुल्लित हैं। उन्होंने चीता परियोजना के लिए प्रदेश के कूनो नेशनल पार्क का चयन किए जाने को लेकर एक बार फिर पीएम मोदी का आभार व्येक्ते किया है। प्रदेश में कल से एक बार फिर चीते अपनी शानदार तेज रफ्तार के साथ पर्यटकों को मोहित करते नजर आएंगे।

शिवराज सिंह ने कहा, ‘मैं हमारे प्रदेश का सौभाग्य मानता हूं। हम टाइगर स्टेट तो हैं ही, लेपर्ड स्टेट भी हैं, अब मध्यप्रदेश चीता स्टेट भी होने वाला है। इसके लिए मैं प्रधानमंत्री जी और भारत सरकार को धन्यवाद देता हूं। यहां वाइल्ड लाइफ पनपेगी, इसके लिए कई गांव हटाए थे, ताकि वह सुरक्षित सेंचुरी बने। जहां चीते आएं और बाकी तरह की वाइल्ड लाइफ भी वहां रहे। अब वह सपना साकार हो रहा है, संकल्प पूरा हो रहा है। नामीबिया से चीते आना असाधारण घटना है। असाधारण इसलिए, क्योंैकि लगभग 1952 के आसपास हमारे देश में चीतों का अस्तित्व समाप्त हो गया।  दूसरे महाद्वीप से चीतों को लाकर हम बसाएंगे। कोशिश यह करेंगे कि स्वाभाविक रूप से चीते का परिवार बढ़ता रहे। अब दूसरे महाद्वीप से चीते लाकर उनको यहां पुनर्स्थापित कर रहे हैं। शायद यह इस सदी की सबसे बड़ी घटना है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि चीता आना, एक विलुप्त होती हुई प्रजाति को फिर से पुनर्स्थापित करने का काम तो है ही, लेकिन यह पर्यावरण का संतुलन भी बनाएंगे। वाइल्ड लाइफ समृद्ध होगी। केवल इतना ही नहीं, श्योपुर जिले और उसके आस-पास रोजगार के नए अवसर सृजित होंगे। चीते अभी पहुंचे नहीं हैं, लेकिन जमीन की कीमतें कई गुना बढ़ गई हैं। होटल, रिसॉर्ट, गाड़ियां लगेंगी, छोटे-मोटे काम धंधे चालू होंगे। उस इलाके की तस्वीर ही बदल जायेगी। यह वाकई अद्भुत घटना है।

मप्र में दोपहिया पुलिस पेट्रोलिंग वाहन अब कहलाएंगे चीता मोबाइल- गृहमंत्री

कूनो पालपुर अभयारण्यि में नामीबिया से आ रहे चीतों को शनिवार सुबह करीब पौने ग्याकरह बजे पीएम मोदी पिंजरे खोलकर पार्क में छोड़ेंगे। इसके साथ-साथ प्रदेश के एक और क्षेत्र में चीता की एंट्री होने जा रही है। यह है पुलिस विभाग, जिसके दोपहिया पेट्रोलिंग वाहन अब ‘चीता मोबाइल’ कहलाएंगे। प्रदेश के गृहमंत्री डॉ. नरोत्तदम मिश्रा ने इसकी घोषणा की। उन्होंोने बताया कि 17 सितंबर को प्रधानमंत्री मोदी जब पिंजरों को खोलकर चीता को कूनो नेशनल पार्क में छोड़ेंगे, तब प्रदेशभर में ये ‘चीता मोबाइल’ सायरन बजाएंगे। गृहमंत्री ने कहा कि यूं तो प्रदेश में कुछ जगहों पर चीता मोबाइल पहले से चल रहे हैं, लेकिन अब पेट्रोलिंग बाइक ट्रुप को एकरूपता लाते हुए सभी जगह इन्हें  ‘चीता मोबाइल’ के नाम से जाना जाएगा। जब उनसे पेट्रोलिंग ट्रूप को चीता नाम देने की वजह पूछी गई तो उन्होंने कहा कि चीता दुनिया में सबसे तेज दौड़ने वाला प्राणी है। हमारी पुलिस भी तेजी से काम करती है। वह और तेजी से कार्य करे, हमारी गति भी तेज हो, यह सारे संकेत इस चीते में निहित होंगे।

Related Articles

Back to top button