देश

संजय राउत की धमकी के बाद सड़कों पर शिवसेना, बागी विधायक के दफ्तर में तोड़फोड़, दलित सांसद ने मांगी सुरक्षा …

मुंबई। महाराष्ट्र में शिवसैनिकों ने हंगामा करना शुरू कर दिया है। एकनाथ शिंदे के समर्थक विधायक 58 वर्षीय तानाजी शिंदे के कार्यालय में तोड़फोड़ हुई है। साथ ही उनके कारोबार को भी नुकसान पहुंचाने की कोशिश की गई है। न्यूज एजेंसी एएनआई ने घटना का वीडियो जारी है, जिसमें शिव सैनिक ऑफिस में बुरी तरह से तोड़फोड़ करते नजर आ रहे हैं।

शिवसेना नेता संजय मोरे ने सीधे धमकी देते हुए कहा, “हमारी पार्टी के कार्यकर्ता ने तानाजी सावंत के कार्यालय में तोड़फोड़ की। प्रमुख उद्धव ठाकरे को परेशान करने वाले सभी देशद्रोही और बागी विधायकों को इस प्रकार की कार्रवाई का सामना करना होगा। उनके कार्यालय पर भी हमला होगा, किसी को बख्शा नहीं जाएगा।”

वहीं, शिवसेना नेता संजय राउत ने 38 विधायकों के परिवार के सदस्यों की सुरक्षा वापस लेने पर धमकी भरा बयान दिया। उन्होंने एकनाथ शिंदे के पत्र पर जवाब देते हुए कहा, “आप विधायक हैं, इसलिए आपको सुरक्षा दी गई है। आपके परिवार के सदस्यों को समान सुरक्षा नहीं दी जा सकती है।”

संजय राउत ने कहा, “महाराष्ट्र के बाहर आप चील हैं। लेकिन लोगों का धैर्य कमजोर होता जा रहा है। अभी शिव सैनिक सड़कों पर नहीं उतरे हैं। ऐसा हुआ तो सड़कों पर आग लग जाएगी।”

राउत ने भाजपा नेताओं की ओर से इशारा करते हुए कहा कि बकरे की तरह खून करना बंद करो। वहीं, विधायकों की संख्या को लेकर उन्होंने कहा, “कल रात शरद पवार की मौजूदगी में बैठक के दौरान हमें 10 (बागी) विधायकों का फोन आया था। सदन के पटल पर आओ, यहां पता चलेगा कि कौन है मजबूत है।”

मालूम हो कि एकनाथ शिंदे ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल और पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने ‘दुर्भावनापूर्ण तरीके से 38 विधायकों के परिवार के सदस्यों की सुरक्षा वापस’ लिए जाने की बात कही है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘सरकार उनकी और उनके परिवार की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार है।’

पुणे पुलिस के पीआरओ ने कहा कि तानाजी सावंत के कार्यालय में राजनीतिक संकट और तोड़फोड़ के बीच पुणे पुलिस ने अलर्ट जारी किया और सभी पुलिस स्टेशनों को शहर में शिवसेना नेताओं से संबंधित कार्यालयों में सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कहा है। वहीं, मुंबई पुलिस ने भी हाई अलर्ट जारी किया है और सभी पुलिस थानों से शहर के सभी राजनीतिक कार्यालयों में सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा है। यह निर्देश दिया गया है कि अधिकारी स्तर के पुलिसकर्मी अपनी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रत्येक राजनीतिक कार्यालय का दौरा करेंगे।

वहीं, अमरावती से दलित सांसद नवनीत राणा ने केंद्रीय गृह मंत्री से विधायक के परिवार वालों के लिए सुरक्षा मांगी है। उन्होंने कहा, “मैं अमित शाह से उन विधायक के परिवारों को सुरक्षा प्रदान करने का अनुरोध करती हूं जो उद्धव ठाकरे को छोड़कर बालासाहेब की विचारधारा से जुड़े रहकर अपने निर्णय ले रहे हैं। उद्धव ठाकरे की गुंडागर्दी खत्म हो, मैं राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने का अनुरोध करती हूं।”

Related Articles

Back to top button