Breaking News

उतरदा के आश्रित सभी स्कूलों के 73 फीसदी शिक्षकों ने ऑनलाइन कोरोना जागरूकता अभियान में भागीदारी कर बच्चों व अभिभावकों को किया जागरूक …

हरदीबाजार । शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय उतरदा के आश्रित समस्त विद्यालय के 73% शिक्षकों ने ऑनलाइन कोरोना जागरूकता अभियान में अपनी भागीदारी करते हुए उतरदा ग्राम पंचायत के प्राथमिक शाला माध्यमिक शाला तथा उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के छात्र छात्राओं तथा उनके माता पिता को कोरोना से संबंधित सावधानियां तथा टीकाकरण के लिए जागरूकता फैलाने के लिए प्रेरित किया।

ग्राम पंचायत उतरदा तथा शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय उतरदा के अधीनस्थ दो संकुल उतरदा संकुल तथा लौटना पारा संकुल आते हैं। जिसमें उतरदा संकुल में चार प्राथमिक शालाए है तथा तीन माध्यमिक शालाए एवं उच्चतर माध्यमिक शाला है। लोटनापारा संकुल में पांच प्राथमिक शालाए तथा दो माध्यमिक शालाए हैं। संकुल में शिक्षकों ने कांटेक्ट प्रेसिंग टीकाकरण जागरूकता अभियान टीकाकरण ड्यूटी वृहत सर्वेक्षण निगरानी समिति क्वॉरेंटाइन ड्यूटी बैरियर ड्यूटी तथा कंट्रोल जिला कंट्रोल रूम में ड्यूटी करते हुए जिला शिक्षा अधिकारी सतीश पांडे के द्वारा चलाई जा रही स्कूल शिक्षा विभाग के नेतृत्व में स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा चलाई जा रही कोरोना जागरूकता अभियान में आज लगभग 100 परिवार के 500 व्यक्तियों को कोरोना जागरूकता संबंधित संदेश पहुंचाया।

साथ ही साथ उतरदा ग्राम पंचायत के समस्त नागरिक, छात्र-छात्राओं एवं जनप्रतिनिधियों से यह अपील और विनम्र निवेदन किया कि सभी घर पर ही रहे बाहर ना निकले। अति आवश्यक हो जैसे चिकित्सा कार्य संबंधित के लिए ही घर से बाहर निकले। बेवजह समूह बनाकर ताश ना खेले तथा आपस में गपशप ना करें। मछलियों पकड़ने ना जाए, पानी भरने के लिए हैंडपंप में जाए तो मास्क लगाए तथा एक दूसरे से दूरी बना करके रखें। घरों में गर्म पानी, गर्म भोजन तथा स्वच्छता का ध्यान रखें। सभी कोशिश करें कि तालाबों के बजाय घरों में रहकर नहाने का उपाय करें। घरों के शौचालयों उपयोग करें अपने साथ ही साथ अन्य लोगों को भी कोरोना से संबंधित सावधानियां बरतने को प्रेरित करें।

शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय उतरदा के प्राचार्य जीपी लहरे ने उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के अधीनस्थ समस्त शिक्षक शिक्षिकाओं से अपील किया कि वे सब अधिक से अधिक संख्या में छात्र छात्राओं को कोरोना जागरूकता अभियान से जुड़ने के लिए प्रेरित करे। सभी शिक्षक छात्र छात्राओं को फोन करें तथा उनसे कहे कि वे भी अन्य दस छात्र छात्राओं को फोन कर कोरोना जागरूकता अभियान के लिए गूगल मीट के माध्यम से जुड़कर शिक्षकों द्वारा बताए जा रहे सावधानियां को बरतें। क्योंकि ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना का विस्फोट यदि हो जाता है तो फिर उसको नियंत्रण कर पाना मुश्किल हो जाएगी। कोरोना का सबसे बेहतर इलाज सतर्कता और सावधानी है। इसलिए आप सब सतर्क रहे और सावधानी बरतें।

Check Also

कलेक्टर ने लाकडाउन में का लिया जायजा : ग्रामीण क्षेत्रों के साथ ही शहरी क्षेत्र का भी किया निरीक्षण …

बिलासपुर। कोरोना महामारी के संक्रमण को देखते हुए जिले में लाकडाउन प्रभावशील है। लाकडाउन के …

error: Content is protected !!
Secured By miniOrange