Breaking News
.

हॉट स्प्रिंग्स से हटेगा ड्रैगन? सीमा विवाद को लेकर भारत और चीन के बीच कल ही होगी सैन्य वार्ता …

नई दिल्ली। भारत के लद्दाख कोर कमांडर और चीनी दक्षिण शिनजियांग सैन्य जिला कमांडर के बीच रविवार को चुशुल में यह बैठक होगी, जहां बातचीत के एजेंडे में पेट्रोलिंग प्वाइंट 15 या सामान्य क्षेत्र हॉट स्प्रिंग्स से डी-एस्केलेशन होगा। पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास गतिरोध के बाकी स्थानों से सैनिकों को पीछे हटाने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए भारत और चीन के बीच उच्च स्तरीय सैन्य वार्ता का अगला दौर कल यानी रविवार को होगा।

अधिकारियों ने कहा कि दोनों पक्षों ने 13वें दौर की सैन्य वार्ता की तैयारियों के तहत विवरण का आदान-प्रदान किया है, ताकि गतिरोध के बाकी स्थानों पर तनाव खत्म करने पर जोर दिया जा सके। सैन्य सूत्रों ने कहा कि कोर कमांडर स्तर की वार्ता के अगले दौर में हॉट स्प्रिंग्स और कुछ अन्य क्षेत्रों से सैनिकों को पीछे हटाने पर चर्चा होने की उम्मीद है। गौरतलब है कि भारत ने विभिन्न स्तरों पर साफ किया है कि सीमा पर यथास्थिति में कोई बदलाव स्वीकार नहीं किया जाएगा। भारत कूटनीतिक तौर पर चीन को भी लगातार यह संदेश दे रहा है। साथ ही चीनी आक्रामकता से निपटने की रणनीति इस समय भारत के लिए कोर मुद्दा है।

मामले से परिचित लोगों के अनुसार, वरिष्ठ सैन्य कमांडर दक्षिण डेमचोक में देपसांग बुलगे और चारडिंग नाला जंक्शन सहित पूर्वी लद्दाख में एक-एक करके संघर्ष के बाकी बचे बिंदुओं को उठाएंगे। अगर हॉट स्प्रिंग्स से डी-एस्केलेशन पर दोनों एक समझौते पर आने का फैसला करते हैं, तो मई 2020 की चीनी सैनिकों की आक्रामकता को पूर्वी लद्दाख में यथास्थिति के साथ ही उलट दिया जाएगा। अब तक लगभग पीएलए के 50 जवान गश्त बिंदु 15 पर अपनी स्थिति से आगे हैं और इतनी ही संख्या में भारतीय सेना के जवान उनका सामना कर रहे हैं।

हालांकि,  पिछले साल की तुलना में दोनों पक्षों के बीच सैन्य स्थिति कम हो गई है। फिर भी पीएलए ने अभी भी दो से अधिक डिवीजनों और कई संयुक्त हथियार ब्रिगेडों को तैनात सीमा पर आगे की ओर तैनात कर रखा है। भारतीय सेना ने भी चीन को टक्कर देते हुए तैनाती कर रखी है और दोनों तरफ से स्टैंडबाय पर वायु सेना को रखा गया है। बीजिंग पर नजर रखने वाले एक अधिकारी ने कहा कि अगर रविवार को पट्रोलिंग प्वाइंट 15 से डी-एस्केलेशन की प्रक्रिया पर सहमति बन जाती है तो तो भारत और चीन दोनों 16 महीने के बाद पूर्वी लद्दाख थिएटर से सैनिकों को हटाने की दिशा में काम कर सकते हैं।

पिछले दौर की वार्ता में गोगरा पर सहमति बनने के बाद भारत हॉट स्प्रिंग्स इलाके से डी-एस्केलेशन का स्वागत करेगा, क्योंकि नई दिल्ली देपसांग बुलगे और चारडिंग नुल्लाह जंक्शन में गश्त के अधिकारों को हल करने के लिए निरंतर चर्चा चाहता है, ताकि 1597 किमी वाले एलएससी से हर तरह से विवाद हो हटाया जाए। बता दें कि यह वार्ता ऐसे वक्त में हो रही है, जब हाल ही में अरुणाचल प्रदेश में भारत और चीन के सैनिक आमने-सामने आ गए और सीमा विवाद को लेकर एक-दूसरे से भिड़ गए थे। हालांकि, दोनों पक्षों के बीच बातचीत के बाद मामला सुलझ गया।

error: Content is protected !!