Breaking News
.

हिंसा का रास्ता छोड़ मुख्य धारा में लौटे दो नक्सली, लोन वर्राटू अभियान के तहत किया दंतेवाड़ा में समर्पण …

रायपुर । नक्सल उन्मूलन अभियान के तहत 20 दिसंबर को भी सक्रिय इनामी नक्सली बड़ेगुड़रा निवासी बामन कवासी (करटाम) उर्फ चमन लाल (36) ने माओवादी संगठन के खोखली विचारधारा से तंग आकर मुख्य धारा में वापस लौट चुका है। उक्त नक्सली ने भी कुआकोंडा थाना में आत्मसमर्पण किया था। बता दें कि अति संवेदनशील क्षेत्रों में नक्सली मुठभेड़ में मारे जा रहे हैं या फिर आत्म समर्पण कर रहे हैं।

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में चलाए जा रहे लोन वर्राटू (घर वापस आइये) अभियान के तहत दो इनामी नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया है। सरेंडर करने वाले नक्सली कई वारदातों में शामिल रहे हैं। आत्म समर्पित नक्सलियों से कई महत्वपूर्ण जानकारी मिली है, जिससे नक्सलवाद को खत्म करने में बड़ी मदद मिलेगी। आत्म समर्पित नक्सलियों को छत्तीसगढ़ शासन के पुनर्वास नीति का लाभ दिया दिया जाएगा। दंतेवाड़ा जिले में लोन वर्राटू अभियान के तहत अब तक 119 इनामी नक्सली सहित 475 माओवादी सरेंडर कर मुख्य धारा में लौट चुके हैं।

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक गुरुवार को माओवादियों के नक्सल संगठन में कार्यरत सक्रिय इनामी नक्सली फुलपाड़ निवासी कोसा मरकाम (23) ने माओवादी संगठन के खोखली विचारधारा से तंग आकर लोन वर्राटू अभियान के तहत आत्मसमर्पण किया है। पुलिस उप महानिरीक्षक ऑप्स विनय कुमार सिंह, दंतेवाड़ा एसपी डॉ. अभिषेक पल्लव, कमाण्डेंट 111 वीं वाहिनी अम्ब्रेश कुमार, द्वितीय कमान अधिकारी हर्षपाल सिंह के समक्ष कुआकोंडा थाना में उक्त नक्सली ने आत्मसमर्पण किया। कोसा पर एसपी द्वारा 10 हजार रुपए का इनाम घोषित था।

error: Content is protected !!