Breaking News
.

पेट्रोल-डीजल के बढ़े हुए कीमतों से हो रही है मुफ्त वैक्सीन की भरपाई : केन्द्रीय मंत्री…

नई दिल्ली। पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस तथा श्रम एवं रोजगार राज्य मंत्री रामेश्वर तेली का एक बयान काफी सुर्खियों में छाया हुआ है। उन्होंने शनिवार को मीडिया से बात करते हुए कहा कि, पेट्रोलियम उत्पादों पर जो कर लगाए जा रहे हैं, उससे लोगों को सरकार द्वारा मुफ्त वैक्सीन मुहैया करवाई जा रही है।

 

मंत्री रामेश्वर तेली ने कहा कि पेट्रोल की कीमत बहुत अधिक नहीं है। लेकिन इसपर लगने वाले टैक्स से इसके दाम अधिक हो जाते हैं। यह भी संसाधन जुटाने का एक जरिया है। देश में सबको फ्री में वैक्सीन दी जा रही है, उसका पैसा कहां से आएगा, उसी की भरपाई के लिए तेल के दाम बढ़ाए गए हैं।

 

इसके अलावा मंत्री ने तेल की कीमतों की तुलना पानी की बोतल से करते हुए कहा कि, मिनरल वाटर की कीमत तेल की कीमतों से कहीं अधिक है। पेट्रोल की कीमत 40 रुपये है, ऐसे में इसपर राज्य सरकारें अपना टैक्स लगाती हैं। पेट्रोलियम मंत्रालय 30 रुपये लगाता है। जिससे इसकी कीमत 100 रुपये के पास पहुंच जाती है। लेकिन अगर आप हिमालय का पानी पीते हैं तो उसकी एक बोतल की कीमत 100 रुपये है।

 

देश में तेल की कीमतों पर गौर करें तो सोमवार को केरल और कर्नाटक में डीजल की कीमत प्रति लीटर 100 रुपये से अधिक हो गई। लगातार सातवें दिन तेल की कीमतों में वृद्धि की गयी। अधिसूचना के अनुसार, सोमवार को पेट्रोल के दाम 30 पैसे प्रति लीटर और डीजल का भाव 35 पैसे प्रति लीटर और बढ़ गया। वहीं दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 104.44 रुपये प्रति लीटर और मुंबई में 110.41 रुपये प्रति लीटर के उच्चतम स्तर पर पहुंच गयी है।

 

वैसे यह पहली बार नहीं है, जब तेल की कीमतों पर किसी नेता ने अजीबोगरीब बयान दिया है। इससे पहले बीजेपी नेता और बिहार सरकार के पर्यटन मंत्री नारायण प्रसाद ने कहा था कि “देश की आम जनता गाड़ी से नहीं बल्कि बस से चलती है। आम जनता महंगाई से परेशान नहीं है। देश में बढ़ती महंगाई से नेताओं को परेशानी है। आम जनता को तो बढ़ती महंगाई की आदत हो जाती है।”

error: Content is protected !!