Breaking News
.

महाराष्ट्र बॉर्डर पर मुठभेड़, बालाघाट पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराए 31 लाख के इनामी 3 हार्डकोर नक्सली ….

रायपुर। छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश की सीमा से लगे बालाघाट जिले में पुलिस व नक्सलियों की जबर्दस्त मुठभेड़ हुई है। पुलिस ने एनकाउंटर में 3 हार्डकोर इनामी नक्सलियों को मार गिराया है। जंगल में अभी भी सर्चिंग जारी है। मुखबिर की सूचना पर आईजी संजय सिंह और एसपी सौरभ कुमार की अगुआई में ऑपरेशन लॉंच किया गया था। 50 से ज्यादा नक्सलियों के जमावड़े की सूचना फोर्स को मिली थी। बालाघाट के बहेला थाना क्षेत्र में यह मुठभेड़ हुई है।

मिली जानकारी के मुताबिक बालाघाट जिले के नक्सल प्रभावित लांजी क्षेत्र से करीब 15 किलोमीटर दूर स्थित ग्राम पंचायत खांडापाडी के आश्रित ग्राम कंदला के जंगल में पुलिस व नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई। मुखबिर की सूचना पर जवान सर्चिंग पर निकले थे। जवान गश्त करते हुए कांदला पहुंचे थे, तभी नक्सलियों ने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। जवानों ने भी नक्सलियों का मुंहतोड़ जवाब दिया। मुठभेड़ में पुलिस ने विस्तार दलम प्लाटून 56 व दड़ेकसा दलम के 3 हार्डकोर नक्सलियों को मार गिराया है। जवानों को भारी पड़ता देख अन्य नक्सली जंगल का फायदा उठाकर भाग खड़े हुए। सर्चिंग करने पर 3 नक्सलियों के शव मिले हैं। जवान अभी भी जंगल में मौजूद हैं। छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव जिले के डोंगरगढ़ और गंडई-साल्हेवारा का जंगल इससे लगा हुआ है।

मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने ट्वीट कर इसकी जानकारी साझा की है। उन्होंने बताया कि बालाघाट जिले के बहेला थाना इलाके में पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में 3 इनामी नक्सली मारे गए हैं। हॉक फोर्स ने मुठभेड़ में नक्सलियों के डिवीजनल कमेटी के मेंबर और 15 लाख के इनामी हार्डकोर नक्सली नागेश और 8-8 लाख रुपये के इनामी एरिया कमांडर नक्सली मनोज और महिला नक्सली रामे को ढेर किया है। जवान अभी सर्चिंग ऑपरेशन चला रहे हैं।

बता दें कि जिस इलाके में मुठभेड़ हुई है वह मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र व छत्तीसगढ़ (MMC) जोन का इलाका है। एमएमसी जोन को नक्सली मजबूत करने में जुटे हुए हैं। नक्सली महाराष्ट्र में वारदात को अंजाम देकर मध्य प्रदेश या छत्तीसगढ़ भाग जाते हैं। वहीं छत्तीसगढ़ में घटना को अंजाम देकर महाराष्ट्र या फिर मध्य प्रदेश चले जाते हैं। यह इलाका लंबे समय से माओवाद प्रभावित है। मध्य प्रदेश से छत्तीसगढ़ के कवर्धा, राजनांदगांव व नवगठित खैरागढ़-गंडई जिला लगा हुआ है। इन जंगलों में नक्सलियों की आवाजाही होती है। मुठभेड़ के बाद पड़ोसी राज्यों के पुलिस व फोर्स को अलर्ट रहने के निर्देश जारी किए गए हैं।

error: Content is protected !!