मध्य प्रदेश

कर्ज से परेशान ठेकेदार ने पत्नी व 4 बच्चों को जहर देकर खुद भी खाया

सेंटिंग लगाने का काम करता है बैरागढ़ कलां निवासी युवक, आर्थिक तंगी से जूझ रहा था

भोपाल। जिले के बैरागढ़ कलां में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां के एक ठेकेदार ने अपनी बीवी और चार बच्चों को जहर देकर मारने और खुद भी जहर खाकर सुसाइड करने की कोशिश की। लेकिन, समय रहते सभी को अस्पताल में पहुंचा दिया गया। जहां पर उनका इलाज चल रहा है। बताया जाता है कि उक्त युवक मकानों में सेंटिंग लगाने के ठेके लेता था। उसने कई लोगों से कर्ज ले रखा था, जिसको चुका न पाने में नाकाम रहने की वजह से मानसिक पीड़ा में था। पैसों की तंगी की वजह से उसने ऐसा कदम उठाया।

नहीं मिल रहे थे काम के पैसे

ठेकेदार ने जहर खाने के पहले अपने भांजे को फोन किया और कहा- अलविदा… तो भांजे ने कहा ये क्या बोल रहे हो, तो उसने बताया कि सभी को जहर दे दिया हूं और खुद पीने जा रहा हूं। भांजे ने वजह पूछी तो कहा कि पिछले कई दिनों से पैसों की दिक्कत हो रही है। जिसका ठेका लिया था, उसने काम तो करवा लिया, लेकिन पैसा नहीं दे रहा है। ठेकेदार ने कुछ लोगों से काम के नाम पर एडवांस पैसा भी लिया था। उनका काम नहीं कर पा रहा हूं। पुलिस का भी यही कहना है कि प्रारंभिक जांच में आर्थिक तंगी की वजह से ठेकेदार किशोर जाटव द्वारा ऐसा कदम उठाना सामने आया है। खजूरी थाना प्रभारी संध्या मिश्रा ने बताया कि बैरागढ़ कलां गांव निवासी किशोर जाटव ठेकेदारी करते हैं। हमीदिया अस्पताल से बुधवार सुबह सूचना मिली कि किशोर जाटव (40), उनकी पत्नी सीता जाटव (35), तीन बेटियों कंचन जाटव (15), अन्नू (10), पूरवा (8) और एक बेटे अभय (12) ने जहर पी लिया है। सभी की हालत खतरे से बाहर है, लेकिन दो बच्चों की तबीयत ज्यादा खराब है।

बच्चों की हालत गंभीर

परिवार के 6 सदस्यों में शामिल दो बच्चों की हालत नाजुक बनी हुई है। इन बच्चों का कमला नेहरू अस्पताल में इलाज चल रहा है। डाक्टरों की स्पेशल टीम बच्चों का इलाज कर रही है। स्थिति को देखते हुए डाक्टर लगातार बच्चों की मॉनिटरिंग कर रहे हैं। हालांकि डीसीपी विजय खत्री ने बताया कि सभी सदस्य खतरे से बाहर हैं। इसके अलावा परिवार के अन्य सदस्यों को हमीदिया अस्पताल के एमआईटी वार्ड में भर्ती किया गया है, जहां पर उनका इलाज चल रहा है।

Related Articles

Back to top button