Breaking News
.

राज्य सरकार 28 सौ रूपए समर्थन मूल्य में 1 नवंबर से करें धान की खरीदी : धरमलाल कौशिक…

बिलासपुर। केन्द्र सरकार ने 3 सौ रूपए धान का समर्थन मूल्य बढ़ाया है। ऐसे में प्रदेश की भूपेश सरकार को 2 हजार 8 सौ रूपए समर्थन मूल्य में धान की खरीदी करनी चाहिए। उक्त बातें प्रतिपक्ष नेता धरमलाल कौशिक ने भाजपा कार्यालय में पत्रकारों से चर्चा के दौरान कही। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार से एक नवंबर से धान खरीदने की मांग की है।  

राज्य सरकार ने पिछली बार की तरह इस बार भी धान खरीदी एक दिसंबर से करने की घोषणा की है। लेकिन, इस निर्णय से प्रदेश के गरीब किसानों को समर्थन मूल्य तय करने का फायदा नहीं होगा। न ही उन्हें धान खरीदी को लेकर दी जा रही सुविधाओं का लाभ मिल सकेगा। आने वाले नवंबर महीने में दिवाली पर्व के साथ ही कई त्यौहार है। इसके लिए किसानों को रुपयों की आवश्यकता है। लिहाजा, उन्हें मजबूरी में बाजार में धान बेचना पड़ेगा। धरमलाल कौशिक ने कहा कि सरकार अपने आप को किसान हितैषी बता रही है। लेकिन, सरकार की एक दिसंबर से धान खरीदी करने की घोषणा के बाद प्रदेश के गरीब वर्ग के किसान समर्थन मूल्य के लाभ से वंचित रह जाएंगे। उन्हें बाजार में औने-पौने दाम में धान बेचना पड़ेगा। इसलिए सरकार से मांग है कि धान की खरीदी एक नवंबर से की जाए। इस संबंध में आज प्रदेश के सभी जिलों में कलेक्टर के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा जा रहा है। इसके बाद भी उनकी मांगों को नहीं मानने पर किसानों के हित में भाजपा सड़क की लड़ाई लड़ने के लिए बाध्य होगी।

केंद्र सरकार द्वारा लेवी के चावल लेने से मना करने के सवाल पर धरमलाल कौशिक ने कहा कि पिछले साल सरकार 28 लाख मिट्रिक टन धान FCI के माध्यम से सरकार को जमा नहीं कर पाई थी। इसी तरह 24 लाख मिट्रिक टन चावल अब तक जमा नहीं की है। उन्होंने कहा राज्य सरकार में काम करने की क्षमता नहीं है और केंद्र सरकार पर दोषारोपण कर रही है। उन्होंने कहा कि किसानों की धान समर्थन मूल्य पर खरीदी शुरू हो व 25 सौ के बजाय प्रति क्विंटल 28 सौ रुपये समर्थन मूल्य किया जाए। क्योंकि, केंद्र सरकार ने समर्थन मूल्य में तकरीबन 3 सौ रुपये बढ़ोतरी कर दी है। ऐसे में किसानों को 28 सौ रुपये प्रति क्विंटल मिलना चाहिए।

धान खरीदी के मुद्दे पर कहा सरकार को घेरते हुए धरमलाल ने कहा कि सामने दीवाली का त्योहार है। प्रदेश के कई किसान जल्दी पकने वाले धान की फसल ली है, मिसाई कर त्योहारी खर्च के लिए बेच भी रहे हैं। राज्य सरकार को अन्नदाता किसानों की जरा भी चिंता नहीं है। यही वजह है कि एक नवंबर के बजाय एक महीना विलम्ब से एक दिसम्बर से धान खरीदी का एलान किया गया है।

प्रेस कांफ्रेस में भाजपा के प्रदेश महामंत्री भूपेंद्र सवन्नी, महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष हर्षिता पांडेय, बेलतरा विधायक रजनीश सिंह, मस्तूरी विधायक डॉ. कृष्णमूर्ति बांधी, भाजपा जिलाध्यक्ष रामदेव कुमावत व गुलशन ऋषि मौजूद रहे।

error: Content is protected !!