Breaking News
.

बजट देश के विकास के लिए नए विश्वास की लकीर खींच रहा है— अभिषेक कृष्ण दुबे

नई दिल्ली। साल 2022—23 के लिए पेश किए गए बजट से विकास की दूरगामी सोच परिलक्षित होती है। यह कहना है कि भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य अभिषेक कृष्ण दुबे का। विशेष बातचीत में अभिषेक कृष्ण दुबे ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुशल दिशानिर्देश और दूरगामी नीतियों का ही परिणाम है कि दो वर्ष कोविड महामारी से जूझने के बावजूद भारतीय अर्थव्यवस्था दुनिया में सबसे तेज गति से विकास करने वाली अर्थव्यवस्था बनी हुई है। आगे भी विकास की रफ्तार ऐसी ही बनी रहे, यह बजट सौ वर्ष की सबसे भयंकर आपदा के बीच विकास के नए विश्वास की लकीर खींचता है।

अभिषेक कृष्ण दुबे ने कहा कि मोदी सरकार का यह बजट न सिर्फ विकास की दूरगामी सोच को परिलक्षित करता है अपितु अर्थव्यवस्था को मजबूती देने के साथ ही आम जनता के लिए अनेक अवसर पैदा करने वाला है। सही मायनों में देखें तो ये बजट तत्कालीन आवश्यकताओं का भी समाधान करता है और देश के युवाओं के उज्ज्वल भविष्य को भी सुनिश्चित करता है। उन्होंने कहा कि जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में आधुनिकता व टेक्नोलॉजी की अनिवार्यता को पूरा करने का प्रयास वित्त मंत्री ने इस बजट में किया है। किसान ड्रोन, वंदेभारत ट्रेन, डिजिटल करेंसी, डिजिटल बैंकिंग इकाइयां या फिर 5जी सेवाओं की शुरुआत, अंततः सबका लाभ देश के युवा, मध्यम वर्ग और समाज के निचले तबके में रहने वाले वंचित लोगों को मिलेगा।

भाजयुमो के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य अभिषेक कृष्ण दुबे ने कहा कि सामाजिक विकास की दिशा में आगे बढ़ते हुए सरकार ने गरीब कल्याण पर बजट में पूरा जोर दिया है। इस बजट ने गरीबों की आवास की आवश्यकता को पूरा करने की दिशा में मजबूत कदम उठाया है। केवल घऱ ही नहीं, बल्कि प्रधानमंत्री की सोच के मुताबिक प्रत्येक गरीब को शुद्ध पेयजल की पूर्ति नल से हो, उसके पास शौचालय हो, गैस की सुविधा हो, इन सभी मूल आवश्यकताओं पर बजट में विशेष ध्यान दिया गया है।

error: Content is protected !!