Breaking News
.

महंगाई से लोगों का निकल रहा दम, यूपी में बिजली की नई दरें जारी, बढ़ाए गए 7 रुपए का स्लैब लिया वापस …

लखनऊ। भाजपा शासन में महंगाई ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। इस बीच यूपी भाजपा सरकार ने बिजली की नई दरें जारी करते हुए उपभोक्‍ताओं को राहत दी है। भाजपा सरकार ने अपने ही बढ़ाए हुए 7 रुपए का स्‍लैब वापस ले लिया है। ग्रेटर नोएडा में बिजली दरों में करीब 10 फीसदी की कमी की गई है। घरेलू बिजली की अधिकतम दर साढ़े 6 रुपए प्रति यूनिट होगी।

नई दरों के मुताबिक 300 यूनिट से ऊपर बिजली खर्च करने पर अधिकतम साढ़े 6 रुपए दर होगी। 151 से 300 यूनिट तक 6 रुपए, 101 से 150 यूनिट तक साढ़े 5 रुपए प्रति यूनिट की दर से बिजली मिलेगी।

घरेलू बीपीएल बिजली 3 रुपए प्रति यूनिट की दर से मिलेगी। यूपी राज्‍य विद्युत उपभोक्‍ता परिषद के अध्‍यक्ष अवधेश वर्मा ने एक न्‍यूज 18 से बात करते हुए बताया कि यूपी विद्युत नियामक आयोग प्रदेश के 1.39 करोड़ गरीब उपभोक्‍ताओं को बड़ी राहत दी है। उन्‍होंने बताया कि पहले इन उपभोक्‍ताओं से 3.35 रुपए टैरिफ चार्ज किया जाता था। अब वे सिर्फ 3 रुपए टैरिफ देंगे। शर्त यह रहेगी कि वे एक किलोवॉट 100 यूनिट के अंदर रहेंगे।

दूसरा महत्‍वपूर्ण फैसला यह किया गया कि शहरी घरेलू उपभोक्‍ता के लिए अधिकतम 7 रुपए के स्‍लैब को खत्‍म कर दिया गया है। एक तरह से साढ़े 6 रुपए से ऊपर कोई चार्ज नहीं लगेगा। ग्रामीण क्षेत्र के घरेलू उपभोक्‍ता अभी तक छह रुपए अधिकतम देते थे अब वे 5.50 रुपए से अधिक नहीं चुकाएंगे।

इसके अलावा नोएडा पॉवर कंपनी क्षेत्र के ग्रेटर नोएडा में दरों में 10 फीसदी की कटौती की गई है। कंपनी पर सरप्‍लस निकल रहा था। 5 लाख उपभोक्‍ताओं को इसका लाभ मिलेगा। अवधेश वर्मा ने दावा किया कि बिजली कंपनियों पर प्रदेश के उपभोक्‍ताओं का फिर एक बार 3 हजार करोड़ रुपए निकल गया। पहले 220045 हजार करोड़ निकल था। अब तीन हजार करोड़ और निकल गया। अवधेश वर्मा ने बताया कि नियामक आयोग ने यह भी साफ किया है कि स्‍मार्ट मीटर लगाने का बोझ उपभोक्‍ताओं पर नहीं आया आएगा।

error: Content is protected !!