Breaking News
.

बिरसा मुण्डा की स्मृति में विदर्भ के जनजातीय समाज के लिए हिंदी विश्वविद्यालय चलाएगा अभियान : कुलपति प्रो. शुक्ल…

वर्धा। भारत सरकार ने भगवान बिरसा मुण्डा की जन्मतिथि के अवसर पर 15 नवंबर 2021 से 27 नवंबर 2021 तक पूरे देश में विविध प्रकार के समारोह व आयोजन किए जाने का निर्णय लिया है। भारत के जनजातीय समाज में भगवान और धरती बाबा के नाम से पहचान रखने वाले भगवान बिरसा मुण्डा प्रतिरोध और सुबोध के स्वातंत्र्य आंदोलन के अप्रतिम नायक हैं। 

1897 से 1900 तक अंग्रेजों के विरुद्ध युद्ध करने वाले इस महान क्रांतिकारी ने न केवल जनजातीय समाज को राजनैतिक स्तर पर संगठित कर अंग्रेजों के विरुद्ध युद्ध किया अपितु सामाजिक स्तर पर अंधविश्वास और पाखंडों से मुक्त करते हुए शिक्षा, जागरूकता एवं समाज को संस्कारित करने का काम किया।

1882 में इंडियन फारेस्ट एक्ट के विरुद्ध 1897 से 1900 तक हुए संघर्ष ने उलगुलान का आगाज किया और रणबाकुरे वनवासियों ने तीरों से अंग्रेजों पर आक्रमण कर डाला। संघर्ष, स्वाभिमान और शहादत की इस महनीय परंपरा के प्रतीक हैं भगवान बिरसा मुण्डा। भारत सरकार के इस निर्णय का स्वागत करते हुए महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. रजनीश कुमार शुक्‍ल ने कहा कि 15 नवंबर 2021 से 27 नवंबर 2021 तक विश्वविद्यालय उनकी स्मृति में विविध प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन करेगा और विदर्भ के जनजातीय समाज को शिक्षा, स्वाभिमान, संस्कार और विकास की मुख्यधारा में ले आने के लिए विविध प्रकार के अभियान भी चलायेगा।

error: Content is protected !!