Breaking News
.

रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने किया विश्व रंग 2020 का उद्घाटन …

भोपाल। रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित विश्व रंग टैगोर अंतर्राष्ट्रीय साहित्य एवं कला महोत्सव का दूसरा संस्करण डिजीटल वर्चुअल प्लेटफार्म पर किया जा रहा है। यह आयोजन 20 से 29 नवम्बर के बीच किया जाएगा। मंगलवार को विश्वविद्यालय के शारदा सभागार में आयोजित गरिमामय समारोह में मध्य प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने विश्व रंग 2020 का उद्घाटन किया। इस अवसर पर विश्व रंग पोस्टर, विश्व रंग काफी टेबल बुक और अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के पोस्टर का लोकार्पण किया गया। साथ ही राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर विशेष अंक गांधी विशेषांक और टैगोर अंतर्राष्ट्रीय कला एवं संस्कृति केद्र की साहित्यिक पत्रिका रंगसंवाद का विमोचन भी किया गया।

इस मौके पर मध्य प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव, विश्वविद्यालय के कुलाधिपति व निदेशक विश्व रंग संतोष चौबे, लीलाधर मण्डलोई, भूतपूर्व महानिदेशक, दूरदर्शन एवं सह-निदेशक विश्व रंग, सिद्धार्थ चतुर्वेदी, एग्जिक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट, आईसेक्ट एवं सह-निदेशक विश्व रंग, मुकेश वर्मा, संपादक कथादेश एवं सदस्य आयोजन समिति विश्व रंग, डॉ. ब्रम्हप्रकाश, कुलपति रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय, श्रीराम तिवारी, सदस्य उच्च शिक्षा टास्क फोर्स मध्य प्रदेश, प्रो. अमिताभ सक्सेना, कुलपति, डॉ. सी. वी. रामन् विश्वविद्यालय खण्डवा, डॉ. विजय सिंह, कुलसचिव रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय, विनय उपाध्याय, निदेशक टैगोर अंतर्राष्ट्रीय साहित्य एवं कला केन्द्र, सुश्री पुष्पा असिवाल, निदेशक आईसेक्ट, वरिष्ठ कवि बलराम गुमास्ता, वरिष्ठ कवि-संपादक महेन्द्र गगन खासतौर पर उपस्थित थे।

कार्यक्रम में प्रकाश जावड़ेकर, केन्द्रीय मंत्री, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन और सूचना एवं प्रसारण, भारत सरकार तथा मुख्य मंत्री मध्य प्रदेश शिवराज सिंह चौहान का शुभकामना संदेश अतिथियों के समक्ष प्रस्तुत किया गया।

महोत्सव के उद्घाटन अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने विश्व रंग की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि हमारे देश की संस्कृति उत्सव प्रधान है। वास्तव में ये विश्व रंग का अदभुत रंग है। चुनौतियों के बीच रस लेना ही हमें पूरे विश्व में अलग बनाता है। उन्होंने टैगोर को याद करते हुए कहा कि टैगोर ने भारतीयता की महक महसूस की थी। नाटक, रंगकर्म, चित्रकारी के माध्यम से आनंद भी पाया था। रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय भी टैगोर की विरासत को निरंतर आगे बढ़ा रहा है। विश्वविद्यालय ने नई शिक्षा नीति के अनुरुप ही शिक्षा के साथ स्टार्टअप, नवाचार, कौशल, कला, संस्कृति और साहित्य को केन्द्र में रखा है। इस अवसर पर मंत्री जी को कथादेश के 18 खण्ड भेंट स्वरुप दिये गए।

इस मौके पर संतोष चौबे ने कहा कि विश्व रंग 2020 कला, साहित्य और संस्कृति के लिये वर्चुअल प्लेटफार्म पर 16 से अधिक देशों में विश्व का सबसे बड़ा आयोजन है। हिन्दी और भारतीय भाषाओं को बढ़ावा देना, हिन्दी व उसकी बोलियों के साथ समन्वय, भारत तथा भारतीयता को केन्द्रियता प्रदान करना तथा एक वैश्विक सांस्कृतिक नेटवर्क का निर्माण करना इस महोत्सव का मुख्य उद्देश्य है। विश्व रंग के सह-निदेशक लीलाधर मण्डलोई ने अपने वक्तव्य में कहा कि विश्व रंग आज वैश्विक हो गया है। निश्चित ही विश्व रंग विश्व मानवता को स्थापित करेगा।

सिद्धार्थ चतुर्वेदी, सह-निदेशक विश्व रंग ने सभी अतिथियों का आभार प्रदर्शन करते हुए कहा कि इस वर्ष विश्व रंग का आयोजन वर्चुअल प्लेटफार्म पर किया जा रहा है। विश्व रंग 2020 के तहत होने वाली सभी गतिविधियों से विश्व रंग की वेबसाइट और यू-ट्यूब चैनल के माध्यम से जुड़ा जा सकता है। विश्व रंग की वेबसाइट www.vishwarang.com पर रजिस्ट्रेशन का सिलसिला जारी है।

इस अवसर पर बच्चों द्वारा एकला चलो रे फिल्म और विश्वविद्यालय एक परिचय फिल्म भी प्रस्तुत की गई। द्वितीय टैगोर नेशनल पेंटिंग एग्जिबिशन के विजेताओं की भी घोषणा की गई। उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा विश्वविद्यालय के अटल इन्क्यूबेशन सेंटर और एनर्जी सेंटर का भ्रमण किया गया। उन्होंने विश्वविद्यालय द्वारा किये जा रहे कार्यों की प्रशंसा की। कार्यक्रम का संचालन विनय उपाध्याय ने किया। इस दौरान आईसेक्ट ग्रुप आफ यूनिवर्सिटीज के सभी विश्वविद्यालय, विश्व रंग के सहयोगी संस्थान आनलाइन माध्यम से बड़ी संख्या में जुड़े।

error: Content is protected !!