Breaking News
.

पंजाब में प्रधानमंत्री की रैली 14 फरवरी को, बहिष्कार की तैयारी में राज्य के किसान ….

चंडीगढ़। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 14, 16 और 17 फरवरी को पंजाब में चुनावी रैलियों को संबोधित करने वाले हैं जिसमें मालवा, दोआबा और माझा के तीनों इलाके कवर होंगे। वह 14 फरवरी को जालंधर में, दूसरी 16 फरवरी को पठानकोट में और 17 फरवरी को अबोहर में तीसरी जनसभा को संबोधित करेंगे। वहीं राज्य के किसानों ने उनकी यात्रा का बहिष्कार करने की योजना बनाई है।

कांग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने शुक्रवार को कहा था कि पीएम को हेलीकॉप्टर या विमान से पंजाब का दौरा करना चाहिए, क्योंकि अगर वह राज्य में सड़क मार्ग से यात्रा करने का विकल्प चुनते हैं तो उन्हें समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। कांग्रेस नेता ने कहा कि राज्य के लोग यह नहीं भूले हैं कि उन्होंने एक साल से अधिक समय तक नरेंद्र मोदी के कारण सड़कों पर बिताया।

बिट्टू ने कहा, “उनका स्वागत है। हमने लोगों से कहा है कि प्रधानमंत्री की बात सुनें। उन्हें हवाई मार्ग से आना चाहिए। उन्हें अभी भी सड़क मार्ग से समस्या हो सकती है, क्योंकि मोदी एक साल से अधिक समय से हर पंजाबी को सड़क पर रखा है। वे कैसे भूलेंगे? विरोध के दौरान 700 से अधिक किसानों की मौत हो गई।”

पिछले महीने पीएम मोदी के पंजाब के फिरोजपुर जाते समय कुछ प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम कर दिया था। इसके कारण प्रधानमंत्री एक फ्लाईओवर के ऊपर 15-20 मिनट तक फंसे रहे। गृह मंत्रालय ने सुरक्षा चूक की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस इंदु मल्होत्रा ​​की अध्यक्षता में 12 जनवरी को समिति गठित की और इसे पीएम की सुरक्षा में बड़ी चूक करार दिया।

सुरक्षा चूक के बाद केंद्र और पंजाब सरकार ने अलग-अलग जांच शुरू की। पंजाब ने रिटायर्ड जस्टिस मेहताब सिंह गिल और गृह सचिव अनुराग वर्मा की कमेटी बनाई। जबकि केंद्र ने इंटेलिजेंस ब्यूरो और एसपीजी अधिकारियों के साथ सुरक्षा सचिव की अध्यक्षता में जांच समिति भी बनाई। केंद्रीय समिति ने पहले ही जांच शुरू कर दी थी।

error: Content is protected !!