Breaking News
.

अरविंद 2024 में नरेंद्र मोदी को देंगे सीधी चुनौती, जानें ऐसा क्या बोले दिल्ली के यशस्वी मुख्यमंत्री केजरीवाल ….

नई दिल्ली। दिल्ली के बाद आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब में प्रचंड बहुमत की सरकार बना चुकी है। अब पार्टी गुजरात और हिमाचल प्रदेश में भी विधानसभा चुनाव की तैयारी तेज कर चुकी है। ऐसे में एक बार फिर जहां अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी का नाम लेकर केंद्र सरकार को घेरना शुरू किया है तो दूसरी तरफ आप के कई नेता तो यह भी कहने लगे हैं कि बीजेपी डरने लगी है। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि क्या अगले लोकसभा चुनाव में अरविंद केजरीवाल खुद को पीएम मोदी के विकल्प के रूप में पेश करेंगे? दिल्ली के मुख्यमंत्री का इस पर जवाब सामने आया है।

अरविंद केजरीवाल से पूछा गया कि क्या वह 2014 की तरह 2024 में पीएम मोदी को सीधी चुनौती देंगे? दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा, ”हर समय अलग, हर टाइम अलग होता है।” केजरीवाल से जब पूछा गया कि क्या उन्हें लगता है कि पीएम मोदी को हरा सकते हैं तो उन्होने जवाब दिया, ”मेरी जिंदगी का मकसद मोदी को हराना नहीं है। मेरा एकमात्र मकसद देश को आगे ले जाना है, जब भी हम सत्ता में आएं।” पंजाब के कार्यकर्ताओं की ओर से उनको पीएम उम्मीदवार के रूप में पेश किए जाने को लेकर केजरीवाल ने कहा कि यह कार्यकर्ताओं का प्यार है और सबकुछ जनता पर निर्भर है।

पंजाब में अपनी जीत को उम्मीद से बेहतर बताते हुए केजरीवाल ने कहा कि आम आदमी पार्टी महज एक पार्टी नहीं बल्कि एक विचारधारा है, भारत को दुनिया में नंबर एक बनाने का जरिया है।” आम आदमी पार्टी के संयोजक ने कहा, ”75 सालों में देश को गरीब और अशिक्षित रखा गया। लोग गुस्से में हैं। सभी पार्टियों ने देश को लूटा। अब हमें विश्वास है कि यदि हम 5 साल में दिल्ली को ठीक कर सकते हैं तो देश को भी ठीक किया जा सकता है।” उन्होंने कहा कि आप भ्रष्टाचार में डूबी व्यवस्था में ताजी हवा के झोंके की तरह है।

दिल्ली के सीएम से सवाल किया गया कि क्या वह बीजेपी से लड़ने के लिए दूसरी पार्टियों से गठबंधन को तैयार हैं तो केजरीवाल ने कहा कि उनका मिशन बीजेपी को हराना नहीं, बल्कि गुड गवर्नेंस देकर सिस्टम को चेंज करना है। उन्होंने कहा, ”मेरा लक्ष्य कभी यह नहीं रहा है कि हम बीजेपी को कैसे हराएं। मुझे विश्वास है कि कई पार्टियां इस तरह सोचती हैं। मेरा लक्ष्य देश को दुनिया में नंबर एक देखना है। लोगों ने हमारे सकारात्मक अजेंडा को पसंद किया। जब भी हम लोगों को अपने सकारात्मक अजेंडा से सहमत करेंगे, वह हमें सत्ता में लाएंगे।”

error: Content is protected !!