मध्य प्रदेश

100 करोड़ से संवरेगा इटारसी का रेलवे स्टेशन, यात्री सुविधाओं के साथ हाईटेक होंगे प्लेटफार्म, यात्री सुविधाओं के साथ ही पार्किंग, साइडिंग जैसे कई कार्य होंगे …

भोपाल. मध्यप्रदेश के सबसे बड़े रेलवे स्टेशन पर अवैध वेंडरिंग और खानपान की सामग्रियों में शुद्धता को लेकर काफी शिकायतें मिल रही थीं। इसकी जांच करने पश्चिम मध्य रेलवे के भोपाल मंडल की सीनियर डीसीएम प्रियंका दीक्षित अचानक पहुंची गईं। दक्षिण एक्सप्रेस से पहुंची प्रियंका दीक्षित ने पहुंचते ही फ्लेटफार्म 2-3 और 4-5 पर स्थित फूड स्टॉल का निरीक्षण किया। इस दौरान 5 नबंर पर सांची दूध- दही स्टॉल पर खाद्य सुरक्षा का प्रमाणपत्र नहीं मिला। स्टॉल संचालक को प्रमाणपत्र उपलब्ध ना कराने पर अंतिम चेतावनी दी।

डीसीएम प्रियंका दीक्षित के आने की खबर रेलवे के स्थानीय अधिकारियों को नहीं थी, हालांकि वेंडरों को खबर मिलते ही फूड स्टॉलों संचालकों ने खाद्य सामग्रियों को पतले कपड़े से ढांक दिया। वहीं, कई अवैध वेंडर प्लेटफार्म से गायब हो गए। इस दौरान जनता खाना भी स्टालों से गायब कर दिया गया। चार नंबर प्लेटफार्म पर स्थित एक स्टॉल पर सीनियर डीसीएम ने इडली खाकर गुणवत्ता देखी। उन्होंने स्टॉल संचालक की सराहना की। उन्होंने सभी स्टॉल संचालकों को जनता खाना उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।

सांची फूड स्टालों पर नहीं मिला खाद्य सुरक्षा प्रमाणपत्र

सीनियर डीसीएम ने स्टेशन पर स्थित फूड स्टॉलों पर खाद्य सुरक्षा प्रमाणपत्र देखा। केवल सांची को छोडकऱ बाकी सभी 15 फूड स्टॉलों पर प्रमाणपत्र मिला। सांची स्टॉल के संचालक को प्रमाणपत्र जल्दी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। उन्होंने चेतावनी दी कि अगली बार उन्हें प्रमाणपत्र नहीं मिला, तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी। प्रियंका दीक्षित ने कहा कि सांची स्टॉल पर खाद्य सुरक्षा प्रमाणपत्र नहीं मिला है। चूंकि, यह प्रमाणपत्र सांची कंपनी भोपाल जारी करती है। इसके लिए हम कंपनी को पत्र लिखेंगे।

केसला के आजीविका केंद्र से खरीदी हस्तशिल्प सामग्री

प्रियंका दीक्षित ने प्लेटफॉर्म 1 से 7 तक सारे फूड स्टॉल के अलावा आईआरसीटीसी के सोपान के अलावा एसी और स्लीपर वेटिंग हॉल का भी निरीक्षण किया। वेटिंग हाल की व्यवस्था रेलवे ने निजी हाथों में सौंप रखी है।  उन्होंने प्लेटफॉर्म एक पर स्थित हस्तशिल्प आजीविका केंद्र के स्टाल पर केसला आदिवासी समूहों द्वारा निर्मित सजावट सामग्री, बेलन-पीढ़ा आदि को देखा। स्टाल पर उन्होंने शंख से निर्मित माला और अगरबत्ती खरीदी, जिसका भुगतान 200 रुपए स्वयं किया। उन्होंने समूह की संचालिका द्वारा बेची जा रही हस्तशिल्प उत्पादों की सराहना की।

रिनोवेशन के लिए 100 करोड़ रुपए की कार्ययोजना

निरीक्षण के बाद सीनियर डीसीएम दीक्षित ने स्थानीय मीडिया से चर्चा भी की। उन्होंने कहा कि वे स्टेशन पर अवैध वेंडरिंग के साथ ही खानपान की शुद्धता को लेकर मिली शिकायतों की आकस्मिक जांच करने आईं हैं। फूड स्टॉलों में खानपान सामग्री के रखरखाव और शुद्धता में सुधार हुआ है, वहीं अवैध वेंडरिंग रोकने के लिए सख्त कार्रवाई करने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। उन्होंने कहा कि रेलवे मंत्रालय ने देश के एक दर्जन जक्शनों में रिनोवेशन करने का निर्णय लिया है। इन जक्शंनों में से एक इटारसी भी है। यहां रिनोवेशन के लिए 100 करोड़ रुपए की कार्ययोजना हमने बनाकर भेजी है। इसमें यात्री सुविधाएं, नए होम प्लेटफार्म का निर्माण, पार्किंग, साइडिंग आदि कई योजनाएं शामिल हैं। उन्होंने कहा कि इटारसी के माल गोदाम से आय अच्छी हो रही है। हम व्यापारियों, श्रमिकों, ट्रक चालकों को और बेहतर सुविधाएं देंगे।

 

Related Articles

Back to top button