Breaking News
.

खैरागढ़ में 2 दिन बाद मतदान, वोटरों को लुभाने के हथकंडे शुरू, साड़ियों की जब्ती पर भाजपा – कांग्रेस ने एकदूसरे पर लगाए आरोप ..

राजनांदगांव। छत्तीसगढ़ के खैरागढ़ विधानसभा उपचुनाव के लिए 12 अप्रैल को मतदान होना है। राजनीतिक पार्टियों का प्रचार भी चरम पर है। वहीं राज्य निर्वाचन आयोग भी निष्पक्ष चुनाव की तैयारियों में जुटा हुआ है। खैरागढ़ विधानसभा क्षेत्र के सभी प्रवेश वाले रास्तों पर चौकसी बढ़ा दी गई है। शुक्रवार-शनिवार की रात पुलिस व निर्वाचन आयोग की टीम ने साड़ियां लोडेड पिकअप वाहन को पकड़ा है। इस मामले में अभी तक यह खुलासा नहीं हुआ है कि साड़ियां कौन बंटवा रहा है। यह स्थानीय स्तर पर है या बाहर से आने वाले नेता अपने साथ लेकर आ रहे हैं।

खैरागढ़ विधानसभा क्षेत्र के रेंगाकठेरा गांव में रात साड़ियों से भरी पिकअप गाड़ी देखी थी। पुलिस व प्रशासन को इसकी सूचना दी थी। मौके पर पहुंची टीम ने पिकअप गाड़ी की जांच तो गाड़ी के अंदर बड़ी संख्या में साड़ियां मिली। पुलिस और निर्वाचन आयोग की टीम ने पिकअप और साड़ियों को जब्त कर लिया है।

एक राजनीतिक दल के कार्यकर्ताओं ने रेंगाकठेरा गांव में एक घर में भी साड़ियां होने को लेकर हंगामा किया, जिसके बाद पुलिस की टीम ने कार्रवाई की है। घर से भी पुलिस ने साड़ियां जब्त की हैं। पिकअप ड्राइवर व घर मालिक साड़ियों के बारे में कुछ नहीं बता रहे हैं। फिलहाल मामले में जांच जारी है। खैरागढ़ क्षेत्र के बढ़ईटोला गांव में निगरानी दल ने वाहन चेकिंग के दौरान एक गाड़ी से 3 लाख रुपये कैश भी बरामद किया है।

बड़ी मात्रा में साड़ियों के जब्त होने पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने सीएम पर निशाना साधा है। विष्णुदेव साय ने ट्वीट कर कहा कि अगर रत्ती भर भी काम कर लेते तो यूं चंद वोटों के लिए साड़ी व शराब बांटने की जरूरत नहीं पड़ती। बता दें कि छत्तीसगढ़ में जब भाजपा की सरकार थी तब भी यहां बड़े पैमाने पर कपड़े, बर्तन व अन्य सामान मेटाडोर पकड़े जा चुके हैं। इसलिए यह सामान कौन पहुंचा रहा है इसपर दावे के साथ कुछ बोलना मुश्किल है।

गांवों में रात को निगरानी चल रही है। बता दें कि खैरागढ़ विधानसभा चुनाव के लिए 12 अप्रैल को मतदान होना है और 16 अप्रैल को मतगणना होगी।

error: Content is protected !!