Breaking News
.

8-11 साल के तीन लड़कों ने कहा- पोर्न देखो, इनकार करने पर रेप के बाद 6 साल की बच्ची की हत्या ….

गुवाहाटी । असम में एक ऐसी डरावनी घटना सामने आई है, जिसमें तीन बच्चों ने मिलकर ही 6 साल की बच्ची की हत्या कर दी। उम्र में करीब 8 से 11 वर्ष की आयु के तीन नाबालिग लड़कों ने 6 साल की लड़की की इसलिए हत्या कर दी, क्योंकि बच्ची ने उनके साथ अश्लील क्लिप (पोर्न वीडियो) देखने से इनकार कर दिया। यह घटना असम के नागांव जिले के कलियाबोर पुलिस थाने के उलुओनी के बालीबत के पास एक स्टोन क्रशिंग मिल में हुई। घटना का पता तब चला जब मंगलवार को स्टोन क्रशिंग मिल के शौचालय में बच्ची का शव मिला। इसके बाद मृतक बच्ची के परिवार ने तुरंत पुलिस को सूचित किया और फिर जांच शुरू हुई।

6 साल की बच्ची की कथित हत्या के मामले में पुलिस ने बुधवार को तीन नाबालिगों और एक आरोपी के पिता को गिरफ्तार किया है। यह घटना असम के नागांव जिले के कलियाबोर पुलिस थाने के उलुओनी के बालीबत के पास एक स्टोन क्रशिंग मिल में हुई। घटना का पता तब चला जब मंगलवार को स्टोन क्रशिंग मिल के शौचालय में बच्ची का शव मिला। इसके बाद मृतक बच्ची के परिवार ने तुरंत पुलिस को सूचित किया और फिर जांच शुरू हुई।

रिपोर्ट के मुताबिक, नगांव जिले के पुलिस अधीक्षक (एसपी) आनंद मिश्रा ने बताया कि 6 साल की बच्ची की हत्या की गुत्थी 24 घंटे के अंदर सुलझा ली गई। वहीं दूसरी ओर कलियाबोर अनुमंडल के एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि जांच के दौरान यह भी पाया गया कि नाबालिगों ने लड़की का यौन शोषण भी किया था।

आनंद मिश्रा ने कहा, ‘हमारी जांच के दौरान हमने पाया कि एक ही गांव के 8 से 11 साल के तीन नाबालिग लड़कों ने 6 साल की बच्ची की बेरहमी से हत्या कर दी थी। हमने यह भी पाया कि एक आरोपी के पिता ने पूरी घटना को छिपाने की कोशिश की और हमने उसे भी गिरफ्तार कर लिया।’ पुलिस अधिकारी ने आगे कहा कि अश्लील क्लिप देखने से इनकार करने पर आरोपियों ने 6 साल की बच्ची की पत्थरों से हत्या कर दी। उधर, पुलिस ने घटना के संबंध में मामला दर्ज कर लिया है।

शीर्ष पुलिस अधिकारी ने आगे कहा कि आरोपी पोर्न एडिक्ट थे और वे एक नृशंस अपराध की साजिश और उसके निष्पादन में सक्षम थे। अधिकारी ने कहा कि हमने जांच के दौरान यह भी पाया है कि आरोपी नाबालिग पोर्न एडिक्ट हैं और 11 वर्षीय आोपी अपने पिता के मोबाइल फोन का इस्तेमाल अश्लील क्लिप देखने के लिए कर रहा था। यह बहुत परेशान करने वाला है। हमने मोबाइल फोन जब्त कर लिया है।’

error: Content is protected !!