लखनऊ/उत्तरप्रदेश

भाजपा को लगातार दूसरा झटका, मुरैना में फिर जीत गई कांग्रेस, बीजेपी को लगातार करना पड़ रहा हार का सामना, कार्यकर्ता चिंतित …

मुरैना। मोदी सरकार में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के संसदीय क्षेत्र मुरैना में एक बार फिर भाजपा को झटका लगा है। मुरैना नगर निगम में सभापति के चुनाव में भाजपा को हार का सामना करना पड़ा है। कांग्रेस के सभापति उम्मीदवार राधारमण उर्फ राजा दंडोतिया ने 6 वोटों से जीत हासिल की है।

मुरैना महापौर सीट हारने के बाद सभापति की सीट भी हारना केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के लिए एक बड़ा झटका माना जा रहा है। मेयर का पद गंवाने के बाद सभापति की सीट को हासिल करने के लिए सभी नवनिर्वाचित बीजेपी पार्षदों को केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने दिल्ली बुलाकर अपने बंगले पर रातभर उनके साथ मंथन किया था।

चंबल की मुरैना नगर निगम पर कांग्रेस ने महापौर पर जीत हासिल करने के बाद अब सभापति पद को भी अपने कब्जे में ले लिया है। बता दें कांग्रेस की तरफ से सभापति के लिए वार्ड 27 से राधारमण दंडोतिया को प्रत्याशी बनाया था और भाजपा की तरफ से वार्ड क्रमांक 33 से भावना मंडलेश्वर घोषित हुआ। बीजेपी को कुल 21 वोट मिले हैं तो वहीं कांग्रेस ने 27 वोट हासिल करके महापौर सभापति की सीट पर कब्जा कर लिया है। बता दें मुरैना नगर निगम में बीजेपी के पास कुल 15 पार्षद और कांग्रेस के पास 19 पार्षद थे। वही इसके साथ बीएसपी के 6 पार्षद,आप पार्टी का एक और चार निर्दलीय पार्षद थे। कुल मिलाकर बीएसपी और निर्दलीय पार्षदों ने कांग्रेस के पक्ष में वोट दिया,जिससे कारण कांग्रेस का सभापति जीत गया।य

गौरतलब है कि मोदी सरकार में अहम मंत्रालय संभालने वाले नरेंद्र सिंह तोमर का संसदीय क्षेत्र है और मुरैना जिला उनका गढ़ माना जाता है ऐसे में अब की बार कांग्रेस ने सूपड़ा साफ कर नगर निगम पर पूरी तरह कब्जा कर दिया है। कांग्रेस के पहले मुरैना नगर निगम पर महापौर के पर्व पर जीत हासिल की और अब सभापति के पद को भी जीत लिया है। अब सबसे बड़ा सवाल केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की साख पर उठाए जा रहे हैं क्योंकि अबकी बार इस निकाय चुनाव में तोमर का जादू पूरी तरह पहले नजर आया।

Related Articles

Back to top button