Breaking News
.

वरिष्ठ नागरिक काव्य मंच की तमिलनाडु इकाई की मासिक गोष्ठी रामरस में डूबी …

चेन्नई । श्रद्धेय नरेश नाज़ के सानिध्य में शाम चार बजे से गूगल मीट पर ‘वरिष्ठ नागरिक काव्य मंच’ की तमिलनाडु इकाई की मासिक गोष्ठी राममय वातावरण में सोल्लास संपन्न हुई.. गोष्ठी की अध्यक्षता, हिन्दी के प्रकांड विद्वान डा. आर जे संतोष कुमार ने की.. गोष्ठी की मुख्य अतिथि,दिल्ली इकाई की अध्यक्षा श्रीमती प्रमिला कौशिक सूर्य की भांति हम सबको आलोकित करती रहीं.. विशिष्ट अतिथि श्रीमती शिल्पा जैन ने अपनी रचना से गोष्ठी को नई ऊँचाईयां दीं। 

सरस्वती वंदना के रूप में श्रीमती रेखा सुमन ने अपने मधुर स्वर से वीणापाणि के चरणों में श्रद्धा सुमन अर्पित किये। संतोष श्रीवास्तव ‘विद्यार्थी’ ने मनमोहक रचना द्वारा शीतलता प्रदान की.. तत्पश्चात तमिल नाडु की वरिष्ठतम कवयित्री डा राजलक्ष्मी कृष्णन ने आशीष रूप में देश-भक्ति भरी रचना प्रस्तुत की।

श्रीमती उषा टिबड़ेवाल ने अपने शब्दों से प्रेम वर्षा की। श्रीमती मिथिलेश व रजनी कांत झा ने रामरंग में रंग दिया। सभी झूम उठे। नंद सारस्वत स्वदेशी व त्रिभुवन जैसवाल ने संसार के भले की कामना की.. श्रीमती पमिता खिचा व श्रीमती अनीता सोनी की रचना की सभी ने प्रशंसा की।

श्रीमती सरला ‘सरल’ ने प्रभु राम के जीवन पर रचना प्रस्तुत कर गोष्ठी को राम-रस से सराबोर किया। श्रीमती रेखा सुमन ने ‘पायो मैं तो राम रतन धन पायो’ द्वारा दिल के उद्गार व्यक्त किए।

श्रीमती प्रमिला कौशिक ने बेटी और माँ के रिश्ते का अद्भुत और मार्मिक बखान किया व गोष्ठी की अपार सफलता पर हर्ष जाहिर किया।  डॉ आर जे संतोष कुमार ने बच्चों के लिए उत्साहवर्धक रचना रखी।

बाबू विजय मोहन ने बहुत ही सुन्दर भक्ति-गीत के माध्यम से परमात्मा के प्रति आभार व्यक्त किया। दिनेश कुमार ने सभी का तहेदिल से शुक्रिया अदा करते हुए अपने उत्कृष्ट संचालन के लिए सभी काव्य प्रेमियों का आशीर्वाद प्राप्त किया।

error: Content is protected !!