Breaking News
.

परमात्मा की कथा ही एकमात्र कथा है बाकी सब व्यथा है और व्रथा है … परम पूज्य संत चिन्मयानंद

बिलासपुर। ग्रीन पार्क मुंगेली नाका में चल रही श्रीमद् भागवत कथा स्वर्गीय रामनाथ सिंह चौहान की वार्षिक श्राद्ध में उनके सुपुत्र विक्रम सिंह मुकेश सिंह राकेश सिंह चौहान के द्वारा आयोजन का तृतीय दिवस मैं परम पूज्य संत चिन्मयानंद।

बापू ने कहा कि यदि हमें कथा का एक बार नशा लग जाए और परमात्मा के चरणों में हमारा अनुग्रह हो जाए तो दुनिया में फिर हमें कुछ भी जचता नहीं है सिर्फ परमात्मा ही परमात्मा दिखता है बापूजी ने कहा कि दुनिया की सारी नसें एक रात में चले जाते हैं लेकिन कथा का नशा एक मात्र ऐसा नशा है कि जो अनवरत रूप से हमारे ऊपर चढ़ा ही रहता है कभी उतरने का नाम ही नहीं लेता।

उन्होंने कहा कि जिसने भगवान की कथा का रस नहीं जाना उसने इस संसार में मानो किसी भी चीज को रखा ही नहीं है हमें जो भी दिखता है हम जो भी अपने नेत्रों से इस वक्त दर्शन कर रहे हैं एक दिन यह सब नष्ट हो जाएगा सिर्फ भगवान का नाम ही इस संसार में एक मात्र सत्य है जो हमारे साथ हमेशा रहेगा।

भागवत कथा के प्रथम स्कंध में सभी को प्रणाम करते हुए सूत द्वारा पूछे गए प्रश्नों का उत्तर देते हुए श्रीमद् भागवत कथा को शुभारंभ किया कपिल देव भगवान और देवहूति माता का संवाद सुनाते हुए उन्होंने कहा कि हम अपने जीवन को विषयों में बर्बाद ना करें जीवन बड़ा अमूल्य है और हमें एक बार ही परमात्मा ने कृपा करके यह मानव शरीर दिया है।

इसलिए हम इसको विषयों में परवाह न करते हुए परमात्मा के चरणों से लगाए और परमात्मा का ध्यान करें बापूजी ने कहा कि वह मंदिर में जाते हैं तो हम बहुत सारे देवताओं का दर्शन करके निश्चित नहीं कर पाते कि हम किसी देवता की पूजा करें और हम आपस में ही एक दूसरे में तुलना करने लगते हैं लेकिन कथा हमको यह सिखाती है कि हम पूजा सबकी करें लेकिन अपना विश्वास किसी एक देवता के चरणों में ही रखें तभी हमारी भक्ति सार्थक है कल कथा के माध्यम से भगवान राम और भगवान कृष्ण का जन्म उत्सव धूमधाम से पंडाल में मनाया जाएगा।

error: Content is protected !!