Breaking News
.

सिंधिया ने किया बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा: बोले- जल्द आंकलन कर दिया जाएगा मुआवजा …

शिवपुरी। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जिले में बाढ़ से हुए नुकसान का हवाई सर्वे किया। सर्वे के बाद उन्होंने कहा कि अब बारिश के बाद मौसमी बीमारियों का प्रकोप बढ़ेगा। स्वास्थ्य विभाग इस बात का इंतजार न करे कि लोग बीमार हों और उसके बाद इलाज के लिए आए। विभाग पहले ही घर-घर जाकर बीमारियों की जांच करे, ताकि जरूरत पड़ने पर शुरुआत में ही इलाज किया जा सके। तीन डैशबोर्ड बनाकर उनमें सारी जानकारी दी जाए। पहले डैशबोर्ड में नदियों, बांधों का जलस्तर लिखा जाए। साथ ही, अगले 48 घंटों के मौसम का अनुमान भी उसी पर चस्पा किया जाए। 24 घंटे में यह डैशबोर्ड तैयार हो जाएं।

केंद्रीय मंत्री सिंधिया ने अशोकनगर जिले में सर्वे करने के बाद गुना जिले का हवाई सर्वे किया। अशोकनगर से रवाना होने के बाद उन्होंने सबसे पहले बमोरी और अन्य क्षेत्रों का हेलीकाप्टर से जायजा लिया। इसके बाद हेलिपैड पर ही अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों की बैठक ली। उन्होंने अधिकारियों को इस आपदा से निपटने के लिए कई निर्देश दिए। उनके साथ जिले के प्रभारी मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, प्रदेश के पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया और गुना सांसद केपी यादव ने भी बाढ़ से नुक्सान का हवाई सर्वे किया। इसके बाद उन्होंने शहर के कई इलाकों में जाकर बाढ़ से हुए नुकसान को भी देखा।

उन्होंने कहा कि जब इस तरह की बाढ़ आती है, तो स्वास्थ्य की शिकायतें आती हैं। बुखार, उलटी, फ्लू सहित कई बीमारियों से नागरिक ग्रसित हो जाते हैं। स्वास्थ्य विभाग को यह निर्देश दिए गए हैं कि जो 450 गांव गुना के प्रभावित हुए हैं, वहां स्वास्थ्य विभाग का अमला अभी से टारगेट करके स्वास्थ्य शिविर का आयोजन करे। अभी से जांच की जाए। यह इन्तजार नहीं करना है कि गांव में लोगों के बीमार होने की जब रिपोर्ट आएगी, तब अमला सक्रिय होगा। अभी से इसकी शुरुआत कर देनी चाहिए।

ग्वालियर-चम्बल संभाग में पूर्व सीएम कमलनाथ के दौरे को लेकर पूछे गए सवाल पर सिंधिया ने कहा कि केवल हवाई दौरे तक सीमित नहीं होना चाहिए। जब जायजा लिया जाता है तो हवा से भी लिया जाता है और जमीन पर उतरकर भी लिया जाता है, पर हवा से ज्यादा महत्वपूर्ण है, पांव जमीन पर हों। इसलिए जहां हवा से मैं जा रहा हूं, वहां जमीन पर भी जा रहा हूं। मेरे पांव जमीन से जुड़े रहते हैं। मेरी सोच केवल हवाई भ्रमण की नहीं है। सिंधिया ने कहा कि यह संकट का समय है। ऐसे में पक्ष-विपक्ष नहीं होना चाहिए। चाहे आप पक्ष में हों या विपक्ष में, आप जनता के सेवक पहले हो। इसलिए ऐसे समय में सेवाभाव के साथ जनता की मदद के लिए प्रयास करना चाहिए।

कांग्रेस पर तंज कसते हुए सिंधिया ने कहा कि जब कोरोना महामारी चल रही थी तो कांग्रेस ने कहा कि ये वैक्सीन मत लो। फिर बोला कि वैक्सीन से बीमार हो जाते हैं। फिर बोला कि वैक्सीन पर्याप्त नहीं है। पहले बोला कि लॉकडाउन क्यों किया। फिर बोला कि लॉकडाउन क्यों हटाया। जनता कांग्रेस की असलियत जान चुकी है। उसकी सस्ती राजनीति करने की सोच और विचारधारा है। ये जनता की जान की परवाह नहीं करते। उन्होंने पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक जयवर्धन की किसान सम्मान पदयात्रा पर कटाक्ष करते हुए कहा कि एक तरफ शासन, प्रशासन और सेना लोगों को रेस्क्यू कर रहे थे, वहीं कांग्रेस उनके खिलाफ कलेक्टर कार्यालय में धरना दे रही थी। कांग्रेस अपनी इस निम्न स्तर की राजनीती से कब ऊपर उठेगी।

error: Content is protected !!