मध्य प्रदेश

बिजली शिकायत निवारण में प. क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के इंदौर सहित सभी 15 जिले ‘ए’ ग्रेड में

सीएम हेल्प लाइन में आने वाली बिजली संबंधी शिकायतों का तेजी से हो रहा समाधान

भोपाल। उपभोक्ता सुविधाओं में बढ़ोत्तरी, बिजली आपूर्ति को लेकर सघन पर्यवेक्षण और 15 जिलों में नोडल अधिकारी द्वारा दैनिक समीक्षा कराए जाने से सीएम हेल्प लाइन 181 में आने वाली बिजली शिकायतों का तेजी से एवं सर्वमान्य तरीके से समाधान हो रहा है। इसी वजह से 21 नवंबर को जारी सूची में मप्र पश्चिम क्षेत्र बिजली वितरण कंपनी के इंदौर समेत सभी 15 जिले ‘ए’ ग्रेड में आए हैं।

मप्रपक्षेविविकं इंदौर के प्रबंध निदेशक अमित तोमर ने बताया ‘ए’ ग्रेड मिलना समय पर, नियमानुसार और संतुष्टि के साथ कार्य कराए जाने की पुष्टि करता है। मालवा-निमाड़ में कंपनी स्तर पर मुख्य महाप्रबंधक रिंकेश कुमार वैश्य और संयुक्त सचिव तरूण उपाध्याय सीएम हेल्प लाइन में आने वाली शिकायतों के निराकरण की प्रतिदिन समीक्षा करते है। प्रबंध निदेशक ने बताया कि साथ ही 15 जिलों के अधिकारी भी अपने क्षेत्र की बिजली समस्याओं और शिकायतों का समय पर उचित तरीके से समाधान कराते हैं। इससे सीएम हेल्प लाइन 181 के मापदंडों के अनुसार शिकायतों के समाधान में पिछले 7 माह से कंपनी की स्थिति में सतत सुधार आ रहा है। पहले कुछ जिले “बी” श्रेणी में थे, अब सभी पंद्रह जिले ‘ए’ श्रेणी में हैं। श्री तोमर ने बताया कि ताजा जारी सूची में शाजापुर, इंदौर, आगर, धार, झाबुआ, अलीराजपुर, देवास, खंडवा, खरगोन, बड़वानी, बुरहानपुर, रतलाम, मंदसौर, नीमच और उज्जैन जिला ‘ए’ श्रेणी में आया है। श्री तोमर ने बताया कि इसका श्रेय कंपनी के सभी अधिकारी-कर्मचारियों को जाता है।

Related Articles

Back to top button