राजस्थान

बाल सुधार गृह से गिरफ्तार हुए 5 बदमाश: चला रहे थे रंगदारी का खेल, पैसा नहीं देने वाले बच्चों से करते कुकर्म …

जयपुर । बाल सुधार गृह में ‌हत्या, मारपीट, जेल तोड़ कर फरारी, कुकर्म, तोड़फोड़ जैसी दर्जनों वारदातें हो चुकी हैं। बाल सुधार गृह के पास इसे लेकर कोई जवाब नहीं हैं। सुधार गृह में वह इंतेजान ही नहीं तो जिससे इन सभी वारदातों को कंट्रोल किया जा सके। महेश गुर्जर बड़ी उम्र के बदमाश जो बाल सुधार गृह में घुसे से 18 से कम उम्र में थे लेकिन 20 से 25 साल की उम्र होने पर भी इन जैसे बदमाशों को बाहर निकालने की को व्यवस्था नहीं हैं। ये बदमाश छोटी वारदातों में आने वाले माइन बच्चों को परेशान करते हैं।

बाल सुधार गृह में बालकों की सुरक्षा को लेकर एक बार फिर सुधार गृह पर सवाल खड़े हो चुके हैं। पुलिस ने रंगदारी का माफियाराज चलाने वाले और पैसा नहीं देने पर युवकों के साथ कुकर्म करने वाले पांच बदमाशों को गिरफ्तार कर रिमांड पर लिया हैं। हैरान करने वाली बात यह है कि गिरफ्तार होने वाली इस गैंग का सरगना थानागाजी गैंगरेप का मुख्य आरोपी भी हैं। ट्रांसपोर्ट नगर थाना पुलिस ने बाल सुधार गृह से महेश गुर्जर, धर्मेन्द्र तिवारी, विवेक व्यास, रविराज पांडे और हितेश दुबे को गिरफ्तार किया हैं। बदमाश महेश गुर्जर थानागाजी गैंग रेप प्रकरण का मुख्य आरोपी भी हैं। सीआई ट्रांसपोर्ट नगर अब्दुल वाहिद ने बताया कि सभी आरोपियों को कोर्ट में पेश कर दो दिन का रिमांड लिया गया हैं।

उन्हें मारपीट कर के उनके परिजनों से पैसा मंगवाते हैं। 9 नवम्बर को भी इसी तरह की वारदात बाल सुधार गृह में हुई थी। दो पीड़ित बाल अपचारियों ने पुलिस को जानकारी दी थी की उनके साथ बद महेश गुर्जर सहित अन्य लड़के उन्हे परिवार से पैसा मंगवाने के लिए बोलते हैं। पैसा नहीं आने पर उनके साथ रात को मारपीट करते हैं। कई बार आरोपियों ने उनके गुप्तांग में तेल और कोलगेट भी डाला। कई बार ये आरोपी उनके साथ मारपीट करते फिर कुकर्म किया करते थे।

बाल सुधार गृह का मुख्य मकसद यह है कि जिन बालकों से अपराध हो गया है। उन्हे दोबार मुख्य धारा में लाने का प्रयास हो साथ ही उनके साथ काउंसलिंग की जाए। उनका माइड सैट बदला जाए जिससे की वह सजा काट कर जब बाहर जाएं तो उन्हे समाज में दोबारा से जाने में कोई परेशानी ना हो साथ ही समाज भी उन्हे बड़ी आसानी से एक्सेप्ट कर ले। लेकिन इस प्रकार अगर सुधार गृह में ही नाबालिगों से मारपीट,रंगदारी,कुकर्म जैसी घटनाएं होंगी तो फिर बाल सुधारगृह की व्यवस्था पर सवाल खड़े होते हैं। सीआई ट्रांसपोर्ट नगर अब्दुल वाहिद ने बताया कि पांचों आरोपियों का रिमांड लिया गयाहैं. एसीपी आदर्श नगर हवासिंह के सुपरवीजन में पूरी जांच हो रही हैं।

Related Articles

Back to top button