Breaking News
.

डकैती के आरोपी पिता-पुत्र को गिरफ्तार करने गई पुलिस टीम पर हमला, साईबर सेल प्रभारी सहित 3 पुलिसकर्मी घायल…

भोपाल/बुरहानपुर। बुरहानपुर जिले के नेपानगर वन परिक्षेत्र के चिड़ियापानी गांव में बदमाशों द्वारा तीर, गोफन, पत्थरों से पुलिस टीम पर हमला कर दिया। जवाब में पुलिस ने भी तीन राउंड फायर किए। घटना रात करीब 2 बजे की है। टीम डकैती के आरोपी पिता 45 साल के गीना और पुत्र 27 साल के नूरिया को पकड़ने गांव पहुंची थी। जहां 30 से 40 बदमाशों ने टीम पर हमला कर दिया। टीम में शामिल बुरहानपुर सायबर सेल प्रभारी एपी सिंह सहित अन्य 3 पुलिसकर्मी घायल हो गए। पुलिस ने अज्ञात आरोपियों पर बलवा, शासकीय कार्य में बाधा, हत्या करने के प्रयास आदि मामलों में केस दर्ज किया है। फिलहाल, घायल पुलिसकर्मी जिला अस्पताल में भर्ती हैं। फरार आरोपियों पर पुलिस ने इनाम भी घोषित किया हुआ है।

रात में पुलिसकर्मी आरोपियों को पकड़कर गांव से निकल रहे थे, तभी अज्ञात हमलावरों ने उन पर तीर, गोफन और पत्थरों से हमला कर दिया। पत्थर लगने से कुछ पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं। तीर से बचते हुए टीम किसी तरह वहां से जान बचाकर बाहर निकल पाई। पुलिस को जानकारी मिली थी कि चिड़ियापानी में स्थित अतिक्रमण स्थल पर बाहर से आए हुए अतिक्रमणकारी बस गए हैं। यहां पर डकैती के आरोपी पिता-पुत्र भी रह रहे हैं। इस क्षेत्र में पहले भी वन विभाग की टीमों पर हमले हो चुके हैं। सायबर सेल प्रभारी एपी सिंह ने कहा – हमने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया था, उसे लेकर आ रहे थे। उसी दौरान 30-40 अतिक्रमणकारियों का समूह आ गया और तीरों से हमला करने लगा। हमले के बाद भी पुलिस एक आरोपी को अपने साथ थाने लेकर आई।

29 जुलाई की रात चांदनी गांव से कुछ दूरी पर बोरसल नाले के पास 8-10 नकाबपोश बदमाशों ने डकैती डाली थी। इन्होंने कार के कांच फोड़ कर चालक अजगर खान के गले पर चाकू अड़ा दिया और चाबी भी निकाल ली थी। कार में सवार मयूर मालगुजार उनकी पत्नी भाजपा महिला मोर्चा अध्यक्ष नम्रता मालगुजार सवार थीं। इन्होंने अजगर खान से 14 हजार, मयूर मालगुजार से तीन हजार, जबकि नम्रता से एक सोने का मंगलसूत्र, अंगूठी, कान की बाली लूट ली। इतना ही नहीं यहां से गुजर रहे एक अन्य बाइक सवार व्यापारी कॉलोनी निवासी सचिन काले से भी 30 हजार रुपए लूट लिए। पुलिस पकड़ने पहुंची तो दो पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट भी की। इसी मामले में बाप बेटे गीना पिता किशन और नूरिया पिता गीना को टीम पकड़ने पहुंची थी। इनके कुछ साथियों को पुलिस पहले ही पकड़ चुकी है। उन्हीं ने इनका नाम बताया था।

 

error: Content is protected !!