Breaking News
.

गाय तस्करी के मुख्य आरोपी विनय मिश्रा ने शुभेंदु अधिकारी को भेजा नोटिस, ट्वीट डिलीट करने की मांग …

नई दिल्ली (पंकज यादव) । तृणमूल कांग्रेस के पूर्व नेता और गोतस्करी के आरोपी विनय मिश्रा ने बीजेपी नेता शुभेंदु अधिकारी को लीगल नोटिस भेजा है। विनय मिश्रा ने शुभेंदु अधिकारी को 11 जून को की गईं सोशल मीडिया पोस्ट्स के विरोध में लीगल नोटिस भेजा है। फिलहाल कोयला खनन घोटाले और गोतस्करी के मामले में विनय मिश्रा सीबीआई की ओर से वॉन्टेड है। विनय मिश्रा के वकील की ओर से भेजे गए नोटिस में कहा गया है कि शुभेंदु अधिकारी ने जो पोस्ट की हैं, वे एकदम गलत, छवि खराब करने वाले हैं। राज्य में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी ने फिलहाल इस मामले पर कुछ भी बोलने से इनकार किया है।

शुभेंदु अधिकारी ने 11 जून को लिखा था, ‘विनय मिश्रा 2018 में VANUATU के नागरिक थे और फिर भारत की नागरिकता हासिल की। इसके बाद 2020 में उसी व्यक्ति को टीएमसी यूथ विंग का जनरल सेक्रेटरी बनाया गया। मैं इस ओर चुनाव आयोग का ध्यान दिलाना चाहता हूं कि क्या कोई विदेशी नागरिक किसी राजनीतिक दल का सदस्य हो सकता है।’ पोद्दार की ओर से अधिकारी को भेजे गए नोटिस में दावा किया गया है कि विनय मिश्रा ने 16 सितंबर, 2020 में ही भारत छोड़ दिया था, जबकि सीबीआई ने उसके बाद केस दर्ज किया था।

पोद्दार ने दावा किया कि जब विनय मिश्रा को टीएमसी की यूथ कमिटी का प्रदेश सचिव बनाया गया था, तब वह भारत के ही नागरिक थे। उन्हें 23 जुलाई, 2020 में टीएमसी की ओर से पद दिया गया था। इसके बाद 19 दिसंबर, 2020 को विनय मिश्रा ने भारत की अपनी नागरिकता छोड़ दी थी और पद से इस्तीफा दे दिया था। उनके वकील ने कहा कि विनय मिश्रा को 5 सितंबर, 2018 को भारतीय पासपोर्ट जारी किया गया था। उस दौरान उनके पास किसी भी अन्य देश की नागरिकता नहीं थी। नोटिस में शुभेंदु अधिकारी से कहा गया है कि उन्हें विनय मिश्रा को लेकर किए गए ट्वीट डिलीट करने होंगे अन्यथा कानूनी कार्रवाई का सामना करना होगा। 

error: Content is protected !!