Breaking News
.

येदियुरप्पा के इस्तीफे के बाद कर्नाटक में हंगामा, विरोध में समर्थकों ने किया बंद …

बेंगलुरू। बीएस येदियुरप्पा के कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के तुरंत बाद, शिवमोग्गा जिले में उनके गृहनगर शिकारीपुरा में उनके समर्थकों ने सोमवार को सभी दुकानों और व्यावसायिक प्रतिष्ठानों को बंद कर दिया। रिपोर्ट के अनुसार, येदियुरप्पा के इस्तीफे से निराश उनके समर्थकों ने शिकारीपुरा में सभी दुकानें बंद कर दीं। समर्थकों के ऐसा करने से बीजेपी शीर्ष बुरी तरह हिल गया है। उन्हें ऐसे किसी भी घटनाक्रम की उम्मीद नहीं थी।

शिकारीपुरा में पुरसभा अध्यक्ष के रूप में अपनी चुनावी राजनीति शुरू करने वाले येदियुरप्पा पहली बार 1983 में शिकारीपुरा से कर्नाटक विधानसभा के लिए चुने गए थे और उसी सीट से आठ बार जीते थे। लिंगायत समुदाय के एक प्रमुख सदस्य येदियुरप्पा को कर्नाटक भाजपा के चेहरे के रूप में जाना जाता है। ऐसा लगता है कि मुख्यमंत्री के रूप में उनके इस्तीफे ने उनके गढ़ में कई लोगों को परेशान किया है।

अपने इस्तीफे पर अनिश्चितता और अटकलों के हफ्तों के बाद, बीएस येदियुरप्पा ने सोमवार को अपने इस्तीफे की घोषणा की और राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया।  येदियुरप्पा ने पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह को धन्यवाद दिया। अपनी सरकार के दो साल के कार्यकाल का रिपोर्ट सौंपते हुए येदियुरप्पा ने बुझी हुई आवाज में कहा, “आपकी अनुमति से मैंने फैसला किया है कि दोपहर के भोजन के बाद मैं राजभवन जाऊंगा और राज्यपाल को मुख्यमंत्री पद से अपना इस्तीफा सौंप दूंगा।”

येदियुरप्पा ने कहा, “दुख से नहीं, बल्कि खुशी के साथ अपना इस्तीफा देने जा रहा हूं।” उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी, अमित शाह और जेपी नड्डा को धन्यवाद दिया कि उन्होंने 75 साल से अधिक उम्र के होने के बावजूद उन्हें दो साल तक मुख्यमंत्री के रूप में सेवा करने का मौका दिया।

भाषण के दौरान, येदियुरप्पा ने दो साल के अपने कार्यकाल को अग्नि परीक्षा करार दिया। उन्होंने कहा कि शुरुआती दिनों में बिना कैबिनेट के प्रशासन चलाना था, इसके बाद विनाशकारी बाढ़ और फिर कोरोना वायरस के कहर का सामना किया।

error: Content is protected !!