Breaking News
.

आदिवासी विकास विभाग द्वारा अस्पृश्यता निवारण सद्भावना शिविर का किया गया आयोजन …

रायपुर । छुआ-छूत जैसे रुढ़ीवादी प्रथा को दूर करने, आपसी भाईचारे तथा सामाजिक सामंजस्य स्थापित कर एक लोगों को प्रेरित करने के उद्देश्य से नगरी के ग्राम पंचायत छिपली में शनिवार 17 जुलाई को अस्पृश्यता निवारण सद्भावना शिविर आयोजित किया गया।

कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि सिहावा विधायक एवं उपाध्यक्ष मध्यक्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण डॉ.लक्ष्मी ध्रुव ने कहा कि सद्भावना का संदेश देने के लिए मनुष्य को संगठित, शिक्षित और जागृत रहना होगा। उन्होंने कहा कि छुआ-छूत को दूर करना है, तो सबसे पहले लोगों का शिक्षित होना जरूरी है, क्योंकि जो शिक्षित है वह कभी किसी को बड़ा-छोटा एवं कोई छुआ-छूत नहीं मानता है।

उन्होंने बताया कि भारत रत्न डॉक्टर बाबा साहब भीमराव आंबेडकर ने जो संविधान बनाया है। इसमें समानता के अधिकार का स्थान भारतीय संविधान के अनुच्छेद 14 में वर्णन किया गया है। डॉ. ध्रुव ने कहा कि विधि के समक्ष समानता के अधिकार का यह भी अर्थ है, कि जन में पंथ या सम्प्रदाय के आधार पर किसी भी व्यक्ति का कोई विशेषाधिकार नही होगा।

इस मौके पर समाज प्रमुखों का श्रीफल एवं शॉल भेंटकर स्वागत किया गया। कार्यक्रम में जनपद सदस्य मन्नूलाल यादव, श्रीमती दुर्गेश नंदिनी, सरपंच सन्तराम नेताम सहित सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विभाग डॉ.रेशमा खान एवं मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत नगरी पी.आर.साहू उपस्थित रहे।

error: Content is protected !!