Breaking News
.

नक्सलियों की धमकी के बावजूद उद्धव ठाकरे ने एकनाथ शिंदे को नहीं दी थी जेड प्लस सुरक्षा…

मुंबई। महाराष्ट्र की राजनीति में चल रही उथल-पुछल के बीच शिवसेना के तीन बागी विधायकों ने पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर बड़ा आरोप लगाया है। बागी विधायकों ने आरोप लगाया कि राज्य के तत्कालीन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने नक्सलियों की धमकी के बावजूद एकनाथ शिंदे को ‘जेड प्लस’ सुरक्षा देने से इनकार कर दिया था।

एकनाथ शिंदे जो फिलहाल महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री हैं, उद्धव ठाकरे सरकार में वो शहरी विकास मंत्री होने के अलावा नक्सल प्रभावित गढ़चिरौली के लिए अभिभावक मंत्री भी थे। पुलिस के अनुसार, फरवरी 2022 में गढ़चिरौली में पुलिस कार्रवाई में 26 नक्सलियों के मारे जाने के दो महीने बाद, उन्हें एक धमकी भरा पत्र मिला था। शिवसेना के दो विधायक और शिंदे गुट के नेता सुसाह कांडे और पूर्व गृह राज्य मंत्री (ग्रामीण) शंभूराज देसाई ने बताया कि नक्सलियों की धमकी के बावजूद ठाकरे ने निर्देश दिया था कि शिंदे की सुरक्षा को अपग्रेड नहीं किया जाए।

कांडे ने दावा किया कि पुलिस ने ठाकरे और तत्कालीन गृह मंत्री (राकांपा के दिलीप वलसे-पाटिल) को सूचित किया था कि नक्सली शिंदे को मारने के लिए मुंबई आए थे। उन्होंने पूछा कि फिर भी, उन्हें सुरक्षा प्रदान नहीं की गई। हिंदुत्व विरोधी लोगों को सुरक्षा दी गई, फिर हिंदुत्व नेता को क्यों नहीं? देसाई ने उसी टीवी चैनल को बताया कि उन्हें ठाकरे का फोन आया कि क्या गृह विभाग ने शिंदे की सुरक्षा बढ़ाने के बारे में कोई बैठक की है। उन्होंने दावा किया, मैंने उनसे (ठाकरे) कहा कि उस दिन एक बैठक हो रही थी। मुझे स्पष्ट निर्देश दिए गए थे सुरक्षा में सुधार नहीं किया जा सकता है।

लेकिन कांग्रेस नेता सतेज पाटिल, जो ठाकरे सरकार में गृह मंत्री (शहरी) थे, ने संवाददाताओं से कहा कि मुख्य सचिव की अध्यक्षता वाली एक समिति तय करती है कि किसे किस श्रेणी की सुरक्षा मिलनी चाहिए, और गृह मंत्री या यहां तक ​​कि मुख्यमंत्री भी इसमें हस्तक्षेप नहीं करते हैं।

error: Content is protected !!