Breaking News
.

राजस्थान के दो पैरालिंपिक खिलाड़ियों को मिलेगा खेल रत्न…

जयपुर। राजस्थान के दो पैरालिंपिक खिलाड़ियों को खेल रत्न मिलेगा। इन दोनों खिलाड़ियों ने पैरालिंपिक प्रतियोगिता में राज्य का प्रतिनिधित्व करते हुए गोल्ड मैडल हासिल किया था। नेशनल स्पोर्ट्स अवॉर्ड कमेटी ने ऐलान करते हुए बताया है कि इस बार देशभर के 11 खिलाड़ियों को खेल से सम्मानित किया जाएगा। जिसमें राजस्थान के अवनि लेखरा और कृष्णा नागर भी शामिल है। अवनि ने टोक्यो पैरालिंपिक में शूटिंग में गोल्ड मेडल जीत देश का नाम रोशन किया था। वहीं, कृष्णा ने बैडमिंटन M6 कैटेगरी में गोल्ड मेडल हासिल किया था। दोनों खिलाड़ी राजस्थान के जयपुर के हैं।

अवनि लेखरा टोक्यो पैरालिंपिक में दो मेडल जीतने वाली देश की पहली खिलाड़ी हैं। जयपुर के शास्त्री नगर में रहने वाली अवनि लेखरा ने टोक्यो पैरालिंपिक में 10 मीटर एयर राइफल में भारत को पहला गोल्ड जीता था। वहीं, 50 मीटर एयर राइफल महिला प्रतिस्पर्धा में ब्रॉन्ज मेडल जीत इतिहास रचा था। साल 2012 में महाशिवरात्रि के दिन अवनि का एक्सीडेंट हो गया था, जिससे उसे पैरालिसिस हो गया, लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और शूटिंग में मैडल जीत देश का नाम दुनियाभर में रोशन कर दिया।

कृष्णा का खेल रत्न तक का सफर इतना आसान नहीं था। महज 2 साल की उम्र में कृष्णा के परिजनों को उनकी लाइलाज बीमारी का पता चला। इसके बाद कृष्णा की उम्र तो बढ़ रही थी, लेकिन लंबाई नहीं बढ़ रही थी। कृष्णा भी निराश होने लगे। कृष्णा की हाइट 4 फीट 2 इंच पर ही थम गई। परिजनों ने कृष्णा का हर पल पर साथ दिया और उन्हें मोटिवेट किया। उसका ही नतीजा है कि कृष्णा बैडमिंटन शॉर्ट हाइट कैटेगरी में भारत के लिए पहला गोल्ड मेडल जीतने वाले खिलाड़ी बने हैं। जिसके बाद उन्हें अब खेल रत्न से सम्मानित किया जा रहा है।

11 खिलाड़ियों को मिलेगा खेल रत्न

इस बार नीरज चोपड़ा (जेवलिन), आवनी लेखरा (शूटिंग), मिताली राज (क्रिकेट), रवि दहिया (रेस्लिंग), लोवलिना (बॉक्सिंग), सुनील छेत्री (फुटबॉल), पीआर श्रीजेश (हॉकी), प्रमोद भगत (बैडमिंटन), कृष्णा नागर (बैडमिंटन), मनीष नरवाल (शूटिंग) और सुमित अंतिल (जेवलिन) को खेल रत्न से सम्मानित किया जाएगा।

हाल ही में बदला है अवॉर्ड का नाम

खेल रत्न देश में सबसे बड़ा खेल अवॉर्ड है। पहले यह भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नाम पर था। नरेंद्र मोदी सरकार ने हाल ही में इसका नाम बदलकर मेजर ध्यानचंद खेल रत्न अवॉर्ड कर दिया था।

error: Content is protected !!