Breaking News
.

छात्रों को लू से बचाने दिल्ली सरकार ने स्कूलों से केंद्र की इस गाइडलाइंस का पालन करने को कहा …

नई दिल्ली। डीओई ने सभी स्कूलों के प्रधानाध्यापकों और कर्मचारियों से इस अभियान में हिस्सा लेने और छात्रों के साथ मिलकर नियमित तौर पर पौधों की देखभाल करने को भी कहा है। स्कूलों को भेजे गए पत्र में डीओई ने कहा कि दिल्ली के सभी स्कूलों में ईको-क्लब सदस्यों के माध्यम से अकादमिक सत्र 2022-23 के दौरान डेढ़ लाख पौधे लगाए जाएं, जिसमें 40 हजार पेड़ और 1.1 लाख झाड़ी शामिल हैं। पत्र में कहा गया है कि सभी स्कूलों द्वारा खुली जगहों पर पौधारोपण का 50 प्रतिशत लक्ष्य 15 अगस्त तक हासिल कर लिया जाना चाहिए। वन विभाग द्वारा चलाई जा रही किसी भी नर्सरी से सभी स्कूलों के प्रधानाध्यापक मुफ्त में पौधे ले सकते हैं। निदेशालय ने मौजूदा सत्र में हर स्कूल के लिए कम से कम सौ पौधे लगाने का लक्ष्य भी निर्धारित किया है।  

स्कूली छात्रों को भीषण गर्मी और लू से बचाने को लेकर शिक्षा निदेशालय ने सर्कुलर जारी कर दिया है। जिसमें केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों का हवाला दिया गया है। इसमें छात्रों को गर्मी के प्रभाव से बचाने के लिए निजी और सरकारी स्कूलों को सावधानियां बरतने और उपाय अपनाने को लेकर सलाह दी गई है।

निदेशालय की ओर से कहा गया है कि स्कूलों को सुबह जल्दी शुरू और दोपहर से पहले खत्म कर लिया जाए। सुबह सात बजे से स्कूल को शुरू कर सकते हैं। स्कूल के प्रतिदिन के घंटों को कम करें। स्कूल परिसर में प्रार्थना सभा ढके हिस्से में आयोजित हो। खेल और दूसरी बाहरी गतिविधियां को सुबह जल्दी पूरा किया जाए, जिससे बच्चे सूर्य के प्रकाश के संपर्क में सीधे न आएं।

स्कूल बस और वैन में ज्यादा भीड़ नहीं होनी चाहिए। सीट की क्षमता से अधिक छात्रों का न बिठाएं। उसमें पीने के पानी और प्राथमिक चिकित्सा की व्यवस्था हो।

वहीं, छात्रों को भी सलाह दी गई है कि वह अपने साथ पानी की बोतल, टोपी और छाता जरूर लेकर चलें। स्कूल में पानी की पर्याप्त व्यवस्था हो। ठंडा पानी उपलब्ध कराने के लिए वाटर कूलर का इस्तेमाल करें। कक्षा की अवधि के दौरान शिक्षक छात्रों को पानी पीने के लिए याद दिलाते रहें।

शिक्षा निदेशालय (डीओई) ने राजधानी के सभी स्कूलों से कहा है कि वे अकादमिक सत्र 2022-23 के दौरान अपने ईको-क्लब सदस्यों के जरिये कम से कम डेढ़ लाख पौधे लगाएं।

error: Content is protected !!