Breaking News
.

पार्थ चटर्जी के घर में घुसे चोरों ने किया तगड़ा माल साफ, लोग समझते रहे ईडी के अफसर कर रहे छापेमारी …

कोलकाता। चोर और ईडी अफसरों में लोग अब ज्यादा अंतर नहीं कर पा रहे हैं। यही वजह है कि पार्थ चटर्जी के घर चोरों ने धावा बोला और तगड़ा माल समेट कर चंपत हो गए। इन सब वाकये को देख रहे लोग समझते रहे ईडी के अफसर छापेमारी कर रहे हैं।

शिक्षक भर्ती घोटाले के आरोपी और पश्चिम बंगाल के कैबिनेट मिनिस्टर पार्थ चटर्जी के दक्षिण 24 परगना स्थित घर में चोरी की शिकायत दर्ज की गई है। बताया जा रहा है कि घटना 27 जुलाई की रात की है। जानकारी के मुताबिक चोर मंत्री के घर में ताला तोड़कर घुस गए। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि चोर उनके घर से काफी सामान ले गए हैं। वे कई बैग में भरकर सामान ले गए हैं।

वहां के लोगों ने कहा कि पहले उन्हें लगा कि पार्थ चटर्जी के घर पर एक और छापा डाला जा रहा है। बाद में पता चला कि यह रेड नहीं थी बल्कि चोरी थी। बता दें कि बुधवार को भी ईडी ने छापे में लगभग 29 करोड़ रुपये केश और 5 किलो सोना बरामद किया है। यह रकम अर्पिता मुखर्जी के दूसरे अपार्टमेंट से मिली है। इससे पहले भी ईडी की रेड में अर्पिता मुखर्जी के ही फ्लैट से 22 करोड़ रुपये कैश मिले थे।

बुधवार के छापे में अर्पिता मुखर्जी के घर से बड़ी मात्रा में सोना मिला है। बताया जा रहा है कि इसमें एक-एक किलो की तीन सोने की ईंटें थीं। इसके अलावा जूलरी भी थी। अर्पिता मुखर्जी ने कथित तौर पर यह भी कबूल कर लिया है कि यह सारी संपत्ति पार्थ चटर्जी की है। वहीं अर्पिता के वकील का कहना है कि उनका संपर्क क्लाइंट से नहीं हो पा रहा है इसलिए इस बारे में उन्हें स्पष्ट जानकारी नहीं है।

अब टीएमसी के भीतर भी पार्थ चटर्जी को मंत्रिपद से हटाने की मांग की जाने लगी है। वहीं टीएमसी का कहना है कि उन्हें मंत्री बने रहने देकर कोई गलत काम नहीं किया गया है। ममता बनर्जी ने कहा था कि जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा था कि दोषी पाए जाने पर अगर किसी को उम्रकैद भी दे दी जाए तो उन्हें कोई दुख नहीं होगा।

error: Content is protected !!