Breaking News
.

सीधा सादा वेश था ना कोई अभिमान : खादी की एक धोती पहनें बापू की थी शान …

बिलासपुर। प्रतिवर्ष 2 अक्टूबर को गांधी जयंती मनाई जाती है। इस वर्ष उनकी 152 वीं जयंती मनाई जाएगी। इस दिन को अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। गांधी जी के जन्मदिवस को राष्ट्रीय पर्व की तरह मानते हुए इस दिवस पर विद्यालयों और सरकारी कार्यालयों में अवकाश  रहता है। गांधी जी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ। उनका पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी था। उन्हें राष्ट्र पिता और बापू के नाम से भी संबोधित किया जाता है। 

उन्होंने कई आंदोलन, सत्याग्रह आंदोलन,  दांडी मार्च यात्रा,  दलित आंदोलन,  भारत छोड़ो आंदोलन का नेतृत्व किया। गांधी जी हमेशा सत्य और अहिंसा की राह पर राष्ट्र को आजादी दिलाने में अहम योगदान दिया। गांधी जी पहली बार 20 दिसम्बर 1920 को मौलाना शौकत अली के साथ छत्तीसगढ़ प्रवास पर आये थे। उस समय धमतरी जिले में कंडेल नहर सत्याग्रह का आंदोलन चल रहा था जिसका का नेतृत्व पंडित सुंदरलाल शर्मा कर रहे थे। यह आंदोलन धमतरी में नहर के पानी का उपयोग करने हेतु जुर्माना लगाये जाने पर शुरू हुआ था।

21 दिसम्बर को धमतरी में जनसभा को संबोधित किया। रायपुर में ब्राह्मण पारा में आनंद समाज वाचनालय में महिलाओं को संबोधित किया। नवम्बर 1933 में मीरा बेन, ठक्कर बाबा, महादेव देसाई के साथ अछूतोद्धार कार्यक्रम हेतु गांधी जी का द्वितीय प्रवास रहा। परन्तु इस कार्यक्रम के पूर्व ही पंडित सुंदरलाल शर्मा के द्वारा मंदिर में प्रवेश कराकर इसकी शुरुआत कर चुके थे। गांधी जी ने पंडित सूंदर लाल शर्मा को इस कार्य हेतु अपना अग्रणी कहा था।

छत्तीसगढ़ के रामदयाल तिवारी ने महात्मा गांधी जी के इस यात्रा से प्रभावित होकर गांधी मीमांशा नामक पुस्तक की रचना की। गाँधी जी ने अपना पूरा जीवन देश के लिये समर्पित कर दिया जो आज के आधुनिक युग में भी लोगों को प्रभावित करता है। भारतीय स्वतंत्रता के लिये किये गये अहिंसा आंदोलन से आज भी देश के राजनीतिक नेताओं के साथ-साथ देशी तथा विदेशी युवा नेता भी प्रभावित होते है। इन्होंने स्वराज्य प्राप्ति, समाज से अस्पृश्यता को हटाने, सामाजिक बुराईयों को मिटाने,  किसानों के आर्थिक स्थिति को सुधारने में तथा महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र महान कार्य किये है।

error: Content is protected !!